मोदी की काया पर कैसे चल सकती है किसी की माया




26 मई 2014 को लाल किला के प्राचीर से गुजरात के पूर्व सीएम और देश के वर्तमान पीएम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी ने देश को संबोधित करते हुए मित्रों शब्द का इस्तेमाल किया जो बाद में लोगों के लिए जुमला बन गया. यह ध्वनि पुरे विश्व में एक साथ गूंजी . modi killing Conspiracy

उस वक्त किसी ने ऐसा महसूस नहीं किया होगा कि पीएम मोदी न केवल देश के लोगों को बल्कि दुनिया के लोगों को अपना मुरीद बना लेंगे। यही से पीएम मोदी और नवभारत की राजनैतिक दौर की शुरुवात हुई। यूं कहे तो 26 मई 2014 भारत के लिए पुनर्जागरण का समय रहा और उस वक्त से भारत के राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक और व्यपारिक रिश्तों में आमचुल परिवर्तन हुआ जो आज भी गतिशील है। modi killing Conspiracy

गौरतलब है कि पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में पडोसी देश पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ को भी आमंत्रित किया गया था। जिसे नवाज शरीफ ने दिल की गहराई से स्वीकार किया और पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल भी हुए थे। ये आमंत्रण पाकिस्तान के लिए वरदान जैसा था लेकिन पाकिस्तान इस अवसर को भुना नहीं पाया और दोनों देशों के रिश्तों में दरार बनी रही। इसके बाबजूद पीएम मोदी ने अगले वर्ष 2015 में अफगानिस्तान से लौटते वक्त पाकिस्तान में रुके और नवाज़ से मिले लेकिन इस मौके को भी पाकिस्तान भुना नहीं पाया और अपने पुराने रवैये पर कायम रहा नतीजा पीएम मोदी ने पाकिस्तान कि तरफ फिर मुड़ कर कभी नहीं देखा और आज तस्वीर यह है कि पाकिस्तान मोदी के बढ़ते कदम से इस कदर घबराया हुआ है कि वो भारत से अपने रिश्ते को मधुर बनाने के लिए एक अवसर कि तलाश में है। modi killing Conspiracy

वहीँ दोनों देशों के बीच कि दुरी के एक कॉमन रीजन है और वो राष्ट्र विरोधी लोग है। जैसे पाकिस्तान में आर्मी और कुछ प्रतिबंधित संगठन और भारत में मोदी विरोधी लोग है जो दोनों देशों के बीच खाई का काम कर रहे है। हालाँकि, गुजरात और कर्नाटक विधान सभा चुनाव में पाकिस्तान कि भागीदारी से स्पस्ट हो गया है कि देश में मोदी विरोधी लोग सक्रिय है लेकिन दोनों विधान सभा चुनाव में न केवल विरोधी बल्कि पाकिस्तान को भी मुंह कि खानी पड़ी। ऐसे में मोदी विरोधी लोगों के पास अब कोई विकल्प नहीं बचा।

जबकि दूसरी ओर पीएम मोदी का कद विश्व पटल पर दिन प्रतिदिन  बढ़ता जा रहा है। इस सबको देखते हुए मोदी विरोधी खेमे ने मोदी का विरोध करने के बजाय मोदी को रास्ते से हटाने की सोची और इसके लिए वे एक परफेक्ट प्लांनिग में जुट गए। मोदी विरोधी के पास दो बेस्ट ऑप्शन था पहला जेनयू दूसरा माव। जिसके बाद दोनों ऑप्शन में सही तालमेल स्थापित करने के बाद यह सीक्रेट प्रोजेक्ट पर काम शुरू हुआ। हालांकि, समय से पूर्व इस सीक्रेट योजना का भंडाफोड़ हो गया। जिससे देश एक बड़ी क्षति से बच गया लेकिन इसके बाद शुरू हुई राजनीति। modi killing Conspiracy

राजनीति के बारे में बताने से पहले आपको इस सीक्रेट प्रोजेक्ट के मास्टरमाइंड और प्लानिंग के बारे बताना चाहूंगा। हाल ही में कोरेगांव में कुछ असमाजिक तत्वों के लोगों ने नागरिकों को उकसा कर पुणे की शांति भंग की जो पहले मुंबई फिर पुरे देश में फैली।

इस शांति भंग होने से देश को काफी नुकसान हुआ। इस दरम्यान मोदी की काया को क्षति पहुंचाने कि साजिश रची गई और इसके लिए माव से संपर्क साधा गया और फिर पत्राचार का आदान प्रदान शुरू हुआ। इस पत्र में आय और व्यय की चिंता न करते हुए केवल मोदी को रास्ते से हटाने की बात की गई। इस बात का खुलासा पुलिस के शिंकजे में आये पांच लोगों में से एक रोना विल्सन के दिल्ली स्थित आवास पर मिले पत्र से हुई। जिसमे साफ़ साफ लिखा था कि राजीव गाँधी की तरह मोदी का हश्र करना है। इस सुचना के बाद जाँच एजेंसी सकते में आ गई और जांच शुरू कर दी है। इस बारे में गृह मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि मोदी को पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। modi killing Conspiracy

वहीँ इस मामले में सबसे पहले जेनयू छात्र संघ की कार्यकर्ता ने राजनीति शुरू की जिसमें रशीद ने ट्वीट कर कहा कि पीएम मोदी को रास्ते से हटाने मामले में आरएसएस और नितिन गडकरी साजिश रच रहे है। जिस पर संज्ञान लेते गडकरी ने रशीद के खिलाफ कोर्ट में जाने की बात की है।

इससे आगे बढ़ते हुए एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने कहा कि भाजपा मोदी के सहारे सहानुभूति पाना चाहती है। जिस पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि देश की राजनीति करें द्वेष की नहीं। मोदी बीजेपी के नहीं बल्कि देश के नेता है। modi killing Conspiracy

उनके इस ट्वीट पर शरद पवार के भतीजे पूर्व उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने तंज़ कसते हुए कहा कि यह सरकार की असफलता है जो दर्शाता है कि नरेंद्र और देवेंद्र राष्ट्र और राज्य संभालने में विफल रहे है। इस सबके बीच शिवसेना ने भी टिपण्णी की है। शिवसेना ने टिपण्णी करते हुए कहा कि राष्ट्र और राज्य के प्रमुख के रूप में मोदी और फडणवीस की रक्षा होनी चाहिए।  modi killing Conspiracy

आपको बता दें कि इससे पूर्व भी एक बार पीएम मोदी को रास्ते से हटाने की प्लानिंग थी लेकिन ऐन मौके पर सुरक्षा एजेंसी को इसकी भनक लग गई और इस प्लान का पर्दाफाश हो गया। उस समय मोदी गुजरात के सीएम थे। अब जांच एजेंसी जाँच में जुटी है जिससे उम्मीद है कि वे सच को सामने लाकर रहेंगे और जो कोई इस प्रोजेक्ट के पीछे है उन पर कड़ी कार्रवाई हो और उसे कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। वहीँ पीएम मोदी आज भी अपने पुराने रंग रूप और रौब में दीखते है भले ही यह खबर उनतक पहुँच गई है लेकिन उन्हें इस बात से कोई डर नहीं है और वे न केवल देश बल्कि विदेश के कोने कोने में जाकर 56 इंच सीने के साथ अपनी आवाज को बुलंद कर कहते है मित्रों . modi killing Conspiracy

पीएम मोदी का समाचार ( PM modi News In Hindi) सबसे पहले Mobilenews24.com पर। Mobilenews24.com से हिंदी समाचार (Hindi News) और अपने मोबाइल पर न्यूज़ पाने के लिए हमारा मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए इस ब्लू लिंक पर क्लिक करें Mobilenews24.com App और रहें हर खबर से अपडेट। National News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mobilenews24.com के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।