140 घंटो में मोदी ने पांच महादेशों की यात्रा कर बनाया विश्व कीर्तमान

140 घंटो में मोदी ने पांच महादेशों की यात्रा कर बनाया विश्व कीर्तमान




प्रवीण कुमार, modi made world record 

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महज 140 घंटो में पांच देशों की यात्रा कर विश्व कीर्तमान बनाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 4 जून से लेकर 9 जून तक पांच प्रमुख देशों की यात्रा की। जिसमें यात्रा की शुरुवात अफगानिस्तान से हुई।अपनी यात्रा के दौरान पीएम सबसे पहले अफगानिस्तान पहुचें जंहा उन्होंने अफगानी राष्ट्रपति गनी से मुलाकात कर दोनों देशो के बीच सामंजस्य स्थापित करने के लिए विचार विमर्श किया इस वार्ता में आपसी हितों सहित तमाम मसौदे पर बात हुई जो पूर्व में अल्पावधि के कारण पूर्ण न हो सका था अफगानिस्तान में मोदी ने हेरात शहर में 290 मिलियन डॉलर से बने सलमा हाइड्रोइलेक्ट्रिक डैम का भी उद्घाटन किया। इसके पश्चात अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी ने पीएम मोदी को अफगानिस्तान देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘अमीर अमानुल्ला खान अवॉर्ड से सममनित किया ।

अफगानिस्तान की यात्रा समाप्त करने के बाद मोदी क़तर के लिए रवाना हो गये। पीएम मोदी क़तर के राजधानी दोहा पहुंचे जंहा उन्होंने क़तर में बसे भारतियों से मुलाकात की उसके बाद पीएम मोदी ने क़तर के राजनयिकों के साथ आपसी समझौते पर बात की। क़तर भारत का सबसे अधिक प्राकृतिक गैस निर्यातक देश है,  पीएम मोदी की क़तर यात्रा दोनों देश के लिए अति महत्वपूर्ण रहा।

क़तर की यात्रा समाप्त करने के बाद पीएम मोदी स्विटरलैंड पहुंचे। ये पांच दशक में पहली बार हुआ जब भारतीय प्रधानमंत्री ने स्विटरलैंड का दौरा किया इस यात्रा के दौरान मोदी ने जंहा काले धन के मुद्दे को स्विटरलैंड से साझा कर सहयोग की मांग की वही स्विटरलैंड से एनएसजी में भारतीय समर्थन के लिए भी विचार प्रस्तुत किया जिसे स्विटरलैंड की सरकार ने सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया तथा आश्वासन दिया कि स्विटरलैंड सरकार काले धन के मामले में भारत सरकार की मदद करेगी। इसके बाद मोदी ने स्विस राजनयिकों के आलावा अधिकारीयों सहित अन्य डेलिगेशन से बात की।

स्विस यात्रा समाप्त कर पीएम मोदी अमेरिका पहुंचे जंहा उनका भव्य स्वागत किया। अमेरिका के मोदी प्रेम और इंडो-अमेरिका की दोस्ती के बाद मोदी की अमेरिका की ये पहली यात्रा थी। अमेरिका पहुंचने के बाद सबसे पहले मोदी ने कल्पना चावला सहित सभी शहीद को माल्यार्पण किया उसके पश्चात मोदी को कोलम्बिया के गवर्नर ने भारत से चुराई गई 300 वस्तु को सौंपा। अमेरिका के इस कार्य के लिए मोदी ने आभार प्रकट करते हुए कहा कि ” मैं अमेरिका और अमेरिकी जनता का शुक्रगुजार हूँ” । इसके पश्चात पीएम मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मिले जंहा दोनों देशो के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई जिसमें सभी मुद्दों पर बात की गई, वार्ता के समापन के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने मीडिया से कहा कि अमेरिका भारत के एनएसजी सदस्य्ता का समर्थन करता है। जिससे पूरा परिसर तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठी। इसके बाद मोदी अमेरिका के उद्योगपतियों से मुलाकात की और भारत में निवेश करने की मांग की जिसे सभी उद्योगपतियों ने सहजता से स्वीकार कर लिया।

अमेरिका की यात्रा समाप्त करने के पश्चात मोदी मेक्सिको पहुंचे, मोदी की यह पहली यात्रा है जब वो मेक्सिको के दौरे पर गए। आपको बता दें कि मेक्सिको विश्व का सबसे अधिक चांदी उत्पादक देश है अतः मोदी उद्देश्य लेकर मेक्सिको पहुंचे ताकि भारत में निवेश के लिए और अवसर पैदा हो। विदेश सचिव विकास स्वरूप ने ट्वीट कर कहा कि पीएम मोदी की मेक्सिको यात्रा सफल रही है और दोनों देश सभी समझौते पर सहमति से हस्ताक्षर किये जिससे दोनों देशो के बीच आपसी सहयोग बढ़ेगा। मेक्सिको की यात्रा को पूरा करने के पश्चात पीएम मोदी स्वदेश वापस लौट आये है।

 

 

मोदी आधुनिक विश्व का मसीहा है : अमेरिकी मीडिया modi made world record 

 ये भी पढ़ें  महज 97 घंटो में तीन देशो की यात्रा कर मोदी ने बनाया विश्व कीर्तमान modi made world record 

 modi is messih of modern world
प्रधानमंत्री अपने पांच देशों की यात्रा के क्रम में आज क़तर से स्विटरलैंड पहुंचे इससे पहले पीएम अफगानिस्तान से क़तर पहुंचे थे जंहा दोनों देशो के बीच आपसी सहयोग को बल देने का प्रयास किया गया। क़तर भारत को सबसे अधिक प्राकृतिक गैस निर्यात करने वाला देश है ऐसे में दोनों देशो के लिए मोदी की यह यात्रा अहम रही। यात्रा के दौरान पीएम मोदी ने क़तर के साथ सभी अहम मुद्दों पर द्विपक्षीय वार्ता की और आपसी सहयोग को बढ़ाने हेतु कई लंबित पड़े सौदे पर हस्ताक्षर भी किये। क़तर की यात्रा समाप्त करने के पश्चात पीएम मोदी आज स्विटरलैंड पहुंचे। पीएम मोदी पांच दशक में पहले प्रधानमंत्री है जिन्होंने स्विटरलैंड की यात्रा की है, मोदी की स्विटरलैंड की यात्रा दोनों देश के लिए अहम है। इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी स्विटरलैंड की मॉडर्न टेक्नोलॉजी से रूबरू होंगे और उसे भारत में स्थापित करने हेतु स्विटरलैंड से सहयोग की बात रखेंगे इसके अलावा दोनों देशों के बीच आर्थिक, रक्षा, व्यापार और सैन्य मुद्दों पर द्विपक्षीय वार्ता होगी जंहा मोदी काले धन के मुद्दों को भी उठा सकते है पीएम मोदी के साथ गए शिष्टमंडल के प्रमुख विकास स्वरूप ने ट्वीट कर कहा कि मोदी को लेकर स्विटरलैंड में उत्सव जैसा माहौल है। सरकार, मीडिया और स्विस लोग सभी मोदी की यात्रा को ऐतिहासिक बता रहे है। वही मोदी ने स्विटरलैंड की जनता का आभार प्रकट करते हुए कहा कि हम भारत में दो-तीन स्विटरलैंड बनाना चाहते है किन्तु यह कार्य आपके सहयोग से संभव है। उन्होंने कहा कि मैं स्विस देश की जनता और सरकार को बताना चाहता हूँ कि जिस तरह इंडो-स्विस जोड़ी सानिया मिर्जा-मार्टिना हिंगिस अपने खेल स्परिट से टेनिस में दोनों देशों के मान-सम्मान को बढ़ा रही है ठीक उसी तरह हम इंडो-स्विस देश एक साथ मिलकर हर पहलू पर सहयोग कर विश्व में दोनों देशों के मान सम्मान को ऊँचा करेंगे । स्विटरलैंड ने भारत के एनएसजी सदस्य्ता को लेकर समर्थन करने की मांग को स्वीकार कर लिया। जिससे भारत का एनएसजी का सदस्य बनने की राह आसान हो गयी है । इस संगठन में कुल 48 देश है जिसमें एक सदस्य स्विटरलैंड भी है। स्विटरलैंड का दौरा समाप्त करने के बाद पीएम मोदी कल अमेरिका के दौरे पर रवाना हो जायेंगे जंहा मोदी अमेरिकी संसद को संयुक्त रूप से सम्बोधित करेँगे। मोदी की ये चौथी अमेरिकी यात्रा है और यह यात्रा काफी ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण रहने वाली है क्योंकि मोदी को पहली बार अमेरिका ने केवल द्विपक्षीय वार्ता के लिए निमंत्रित किया है जो भारत के लिए अति महत्वपूर्ण है क्योंकि अमेरिका के मोदी प्रेम से पडोसी देश पाकिस्तान और चीन पर भारत दवाब बनाने में कामयाब हुआ है। modi made world record