एनएसजी मामले में पीएम मोदी इस्तीफा दें : केजरीवाल




कांग्रेस और केजरीवाल आज कल मोदी मामले में एक ही लिक पर चलने लगे हैं। ये सब अच्छी तरह से जानते हैं की माननीय मुख़्यमंत्री केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को जनता कॉग्रेसी भ्रष्टाचार के खिलाफ अपना मत दिया था। मुख्य्मंत्री बनने के लिए केजरीवाल ने जनता से कई वादे किये। आज उसमे से एक भी वादा पूरा नहीं हुआ उलटे भ्रष्टाचार के कई मामलों में इनके कई विधायक जेल जा चुके है । विधायक तो गए ही गए कई मंत्री भी इसके चपेट में आ गये हैं। जिसमें से कुछ तो जेल में हैं और कुछ जेल जाने वाले हैं। modi shouldresign

अब तो मामला थोक के हिसाब से जब जनता के सामने आया है तो केजरीवाल और उनके पार्टी का हतोत्साही होना लाजमी है। अफरा -तफरी के इस माहौल में इयू से जो ब्रिटेन अलग हुआ उस मुद्दे को केजरीवाल ने पकड़ लिया। अब वो उसी के आधार पर दिल्ली में दल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की मांग करने लगे हैं। इससे ये साबित हो रहा है की किस तरह से खुद को ये अंग्रेज का उत्तराधिकारी मानते हैं। इन्हें ये पता नहीं है की ब्रिटेन के इयू से अलग होने के बाद दुनिया को कितना नुकसान हुआ है। modi shouldresign

केजरीवाल साहब 4 लाख करोड़ का नुकसान हुआ है। अहंकारी अंग्रेजों ने अपना असली रूप दुनिया को दिखाया है। इतना ही नहीं डॉलर के मुकाबले पौंड 6.5 प्रतिशत लुढ़क गया। इनकी एकता जिसके कारण ब्रिटेन ताकतवर था वह अब एक कमजोर देश के रूप में आने वाले समय में जाना जाएगा। सोचने वाली बात ये भी है की अलग होने में मात्र 4 प्रतिशत लोगों का ही अंतर् है। ये वो लोग जो यू का मतलब खुद को आप एवं दूसरे को तुम समझते हैं। modi shouldresign

चीनी सामानों का बहिष्कार करें मोदी

कहने का तातपर्य ये हुआ की आदमी तो सब हैं पर महामानव सिर्फ वो 52 प्रतिशत लोग हैं जो अंग्रेज हैं। बाँकी लोग घटिया दर्जे के हैं। अब आप भी स्वयं को आप समझते हैं और अन्य को तुम इसलिए आपने अपने पार्टी का नाम आप रख लिया। भ्रमित जनता ने आपको ऐतिहासिक जीत दिलवाया आपने अपने वादे में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने का वादा किया लेकिन लग गए ओड -इवन के चक़्कर में। modi shouldresign

अपना मंत्री सर्टिफिकेट फर्जी के कारण अपनी पत्नी पर जुल्म ढाने के जुर्म में जब पकड़ाया तो आप प्रधान मंत्री मोदी से ही उनका सर्टिफिकेट मांगने लगे। मोदी को कौन कहे उनके सहयोगी मंत्रियों ने ही उनका प्रमाण आदर सहित आवाम के सामने प्रस्तुत कर दिया। अब एन एस जी में जब भारत का साथ भारत के चिरपरिचित दुशमनो ने नहीं दिया तो आप मोदी के विदेश नीति को बेकार साबित करने में लग गए। जरा सोचिये स्विस बैंक में काला धन भारत का है। जिसे लौटाने के लिए भारत उसपर दबाब बनाए हुआ है। modi shouldresign

मोदी दादागिरी के खिलाफ अपनी छप्पन इंच का सीना ताने खड़ा है modi shouldresign

अगर एनएसजी में वो हमारा विरोध नहीं करेगा तो कौन करेगा। चीन और पाकिस्तान एक होकर भी भारत का जबसे मोदी प्रधानमंत्री हुए कुछ नहीं विगाड़ पा रहा है। इसमें उसके पास पावर है जिसका प्रयोग करके उस श्रेणी में भारत को नहीं आने दिया जिसमे वो वहां बैठा है। ये विल्कुल वही सोच है जो ब्रिटेन का और जिनपिंग या स्विट्जरलैंड आदि जैसे देशों का है। modi shouldresign

दुनिया में मोदी इकलौता नेता है जो इस तरह के दादागिरी के खिलाफ अपनी छप्पन इंच का सीना ताने खड़ा है। अगर देश के गद्दारों की अगले दस साल तक नहीं चली तो हाथ जोड़कर यही देश कहेंगे मोदी आप एनएसजी का सदस्य कौन कहे अध्यक्ष बनो। modi shouldresign