मुसलमान हमें न सिखाये कि हिंदुस्तान में कैसे रहे : मोहम्मद शमी




भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी सोशल साइट पर प्रशंसको द्वारा किये गए आपत्तिजनक आलोचना पर जमकर बरसे, उन्होंने कहा कि मुसलमान हमें न सिखाये कि हिंदुस्तान में कैसे रहे। हमें इस्लाम और हिन्दुतान दोनों के बारे में अच्छी तरह से पता है। इस्लाम हमारा धर्म है और हिंदुस्तान हमारा कर्म है। हम यहाँ पर पैदा हुए है और यही की संस्कृति में पले-बढे है। इसलिए हमें सिखाने की जरुरत नहीं है की हम हिंदुस्तान में कैसे जियें। musalman hmen nahi sikhayen 

मोहम्मद शमी ने कहा कि आलोचना करने वाले पहले अपने गिरेबान में झांके कि वो कितने दूध के धुले है। हम और हमारा परिवार इस्लाम रीति रिवाजो के अधीन जीते है और हिंदुस्तान हमारा देश है अतः हम हिंदुस्तान के लिए जीते है। musalman hmen nahi sikhayen 

पीएम मोदी ने दिया हिंदुओं को सौगात वीजा शुल्क किया माफ़

आपको बता दें कि सोशल साइट ट्विटर पर मोहम्मद शमी उस वक्त ट्रेंडिंग में आ गए थे जब उन्होंने अपनी पत्नी हसीन जहां के संग फोटो शेयर की थी। इस फोटो में हसीन जंहा हिन्दू परिधान में थी। जिस कारण मुस्लिम बहुल के लोगों ने कई आपत्ति जनक कमेंट किये थे। ये बात 23 सितम्बर की है। उस समय से ही उनके फोटो पर धर्म को लेकर कड़ी आपत्ति की गई है। musalman hmen nahi sikhayen 

आप की सोच में खोट है

कुछ लोगों ने तो हसीन जहां को हिजाब में फोटो खिंचवाने की सलाह दे डाली। जबकि कुछ लोगों ने कमेंट में लिखा कि स्लीवलेस कपड़े में फोटो खिंचवाकर हसीन जंहा ने इस्लाम धर्म को अपमानित किया है। musalman hmen nahi sikhayen 

प्रशंसको के इस तरह की आलोचना से मोहम्मद शमी ने कड़ा विरोध किया है, शमी ने कहा कि हमें सिखाने की जरुरत नहीं है कि हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए ? आप अपनी सोचे क्योंकि आप की सोच में खोट है। musalman hmen nahi sikhayen 

ज्ञात रहे कि मोहम्मद शमी इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में घायल हो गए थे जिस कारण उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम दोनों टेस्ट मैच से बाहर होना पड़ा था। टख़नी की सर्जरी के बाद मोहम्मद शमी घर पर आराम फरमा रहे है।  musalman hmen nahi sikhayen 
( प्रवीण कुमार )