मोदी सरकार का ऐलान मुसलमानों को भी कहना पड़ेगा जय श्री राम




“जय श्री राम” यह एक ऐसा छंद है जिससे हिन्दुओं की भक्ति और भावना जुडी है। कहते है कि जय श्री राम के जयकारे से समस्त प्रकार के दुखों का नाश होता है। ऐसे में हर कोई इस छंद का जयकारा करेगा लेकिन ये हिन्दुओं तक सिमित है क्योंकि समाज में भिन्न-भिन्न प्रकार के धर्म है। खासकर, भारत जैसे देश में, जंहा धर्मनिरपेक्ष शासन है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

भारत में मूलतः चार प्रकार के धर्म है जिनके अनुयायी अपने पूर्वजो के कथानुसार धर्म का पालन करते है। हालांकि, ये सर्व विदित है कि सनातन धर्म सबसे प्राचीन धर्म है। इस सबूत और प्रमाण पर भारत में हिन्दुओं की प्रबलता अधिक है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

भारत वेदों और आयुर्वेदों का देश रहा है

इससे पूर्व भारत पर मध्यकाल में मुगलों का शासन था लेकिन ब्रिटिश सम्राज्य ने मुगल के सम्राज्य का नाश कर ब्रिटिश हुकूमत की नीव रखी और कुल 200 वर्षों तक शासन किया। इसके उपरांत भारत आजाद हुआ और भारत में लोकतान्त्रिक शासन का उदय हुआ लेकिन धीरे-धीरे समय के साथ ये जातिवाद में बदल गया। आज परिस्थिति ये है कि देश कई भागों, धर्मो, भाषाओँ और विचारों में बंट गया है। इन सबके बीच राजनीति वो कड़ी है जो देश और धर्मों को बांटने में प्रमुख किरदार की भूमिका निभाता है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

गौरतलब है कि आजादी के पूर्व और पश्चात से कांग्रेस ने जिस तरह से देश पर शासन किया है। वो सर्वव्याप्त है। यदि इसकी व्याख्या करता हूँ तो बेबुनियाद और निराधार साबित होगा क्योंकि कांग्रेस के समर्थक कुछ बोलेंगे। जबकि उनके आलोचक कुछ और बोलेंगे। इसलिए कांग्रेस के शासन पर व्याख्या करना बेईमानी होगी। लेकिन गौर करने वाली बात है कि कही न कही कांग्रेस के शासन में ही जातिवाद की नींव रखी गयी जो आज विशाल मुद्दा बनकर उभरा है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

यदि देश धर्मनिरपेक्ष है तो जातिवाद और धर्मवाद का मुद्दा इतना प्रबल क्यों है ? इसका जबाब सरल और सहज है कि राजनेताओं ने अपने फायदे के लिए देश में फुट डालो और राज करो की निति अपनाई। जिसका खामियाजा सैकड़ों दंगों में मरे लोगों और उनके परिजनों को भुगतना पड़ा। आज देश उसी चौराहे पर आ खड़ा है जंहा देश धर्म, जाति, भाषा और क्षेत्रवाद का मुद्दा प्रबल है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

देश में रहने वाले लोग भी नासमझ और बेवकूफों जैसी हरकत करते है। कोई कहता है, भारत माता की जय नहीं बोलेंगे, वन्दे मातरम नहीं बोलूंगा। कोई कहता है, बोलना पड़ेगा। कोई रात में लाउड स्पीकर बजाकर अपने भगवान् को जगाता है तो कोई मंदिर में घंटा बजाकर भगवान् को मनाता है, कोई चर्च में मोमबत्ती जलाकर अपने भगवान को अपनी फ़रियाद सुनाता है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

देश के अगले राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद होंगे

सभी लोगों का मकसद देश और दुनिया में शांति फैलाना है। तो क्यों ये लोग राजनेताओं के चक्कर में और धर्म के आड़ में हिंसा पर उतर आते है। हमें इससे उबरने की आवश्यकता है यदि आज हम नहीं सुधरे तो आने वाले दिनों में इसका गंभीर परिणाम हमारे वंशजो को भुगतना पड़ेगा। देश बदल रहा है, समय बदल रहा है। फिर हम क्यों नहीं बदल रहे है। जबकि हम सबका मकसद अमन और शांति फैलाना है। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

जानिए राम नाथ कोविंद जी की जीवनी

यदि आज हम मोदी के समर्थक है तो मोदी भक्त कहलायेंगे। मोदी के विरोध में गए तो देश विरोधी कहलायेंगे लेकिन इस सबसे ऊपर है देश भक्ति करना है। भारत वेदों और आयुर्वेदों का देश रहा है। जिसने दुनिया को बहुत कुछ सिखाया। ऐसे में हमें धर्म, जाति से ऊपर उठकर देशभक्ति के मार्ग पर चलना श्रेयष्कर होगा। musalmano ko kahna pdega jai shree ram 

आज जब देश के अगले राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद होंगे तो कुछ नेताओं उनके नाम लेने से मुस्लिम सम्प्रदाय को रोकेंगे क्योंकि उनके नाम में राम जुड़ा है। ऐसे में फैसला आप लोगों के हाथ में है कि देशभक्ति के जरिये देश के विकास पुरुष बनेंगे या फिर धर्म की आड़ में हिंसा फ़ैलाने वाले के साथ जाकर अपने आने वाले वंशजों को अन्धकार में डालेंगे। सोचियेगा जरूर।  musalmano ko kahna pdega jai shree ram 
( प्रवीण कुमार )