मैं ईसाई हूँ इसलिए मुसलमानो को इफ्तार पार्टी नहीं दूंगा : ट्रम्प




अमेरिकी राष्ट्रपति कड़े फैसले लेने के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने ऐसे फैसले लिए जिसका किसी को उम्मीद नहीं थी। लेकिन डोनाल्ड ट्रंप ने दिखा दिया है कि उनकी कथनी और करनी में अंतर नहीं है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कई ऐसे नियम बना रहे हैं जिससे भले ही मुस्लिम समुदाय को दुख लग रहा हो लेकिन वे अपने फैसले सोच समझकर ले रहे हैं। ताकि केवल दिखावा न हो। musalmanon ko iftaar party nahi dunga 

अमेरिका राष्ट्रपति ने एक बड़े फैसले लेते हुए राष्ट्रपति भवन में रमजान के महीने में दिए जाने वाला इफ्तार पार्टी को बंद करा दिया है। अब व्हाइड हाउस में इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि करीब बीस वर्षों से व्हाइट हाउस में इफ्तार पार्टी दिया जा रहा था। जिसे राष्ट्रपति बिन क्लिंटन ने 1996 में शुरुआत की थी। musalmanon ko iftaar party nahi dunga 

दुनिया से आतंकवाद का सफाया करेंगे

इसे परंपरा को जॉर्ज बुश और बराक ओबामा ने जारी रखा। लेकिन अब यह परंपरा खत्म हो गई है। हालांकि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईद की बधाई दी है लेकिन जिस तरह से उन्होंने इफ्तार पार्टी को बंद करा दिया इसपर सबको आश्चर्य हुआ है क्योंकि इस पार्टी में राजनयिक सहित सिनेटर भी शामिल होते थे। दरअसल डोनाल्ड ट्रंप कोई भी नाटक नहीं करना चाहते हैं। musalmanon ko iftaar party nahi dunga 

एक तरफ पार्टी और दूसरी तरफ कार्रवाई। डोनाल्ड ट्रंप सीधे तौर पर कोई बात रखना चाहते हैं जिससे की लोगों को समझ में आए। अगर कोई गलत कार्य कर रहा हो तो जिम्मेदारी बनती है कि उसे न करने दें। हालांकि जॉर्ज बुश ने इफ्तार पार्टी दिए थे और उस समय कहा था कि उनकी लड़ाई आतंकवाद से है न कि इस्लाम से। musalmanon ko iftaar party nahi dunga 

नितीश कुमार धोखेबाज है उन्होंने मेरे पापा को धोखा दिया है : तेजस्वी यादव

लेकिन जिस प्रकार से पूरे विश्व में इस्लाम के खिलाफ माहौल तैयार हुआ है उससे तो साफ हो गया है कि केवल इस्लाम में ही आतंकवाद पैदा हो रहे हैं आखिर क्यों हो रहे हैं इस्लाम में ही। इसका जवाब कोई नहीं दे सकता। डोनाल्ड ट्रंप इस बात को लेकर संकल्पित है कि दुनिया से आतंकवाद का सफाया करेंगे चाहे कितनी भी कठिन निर्णय लेने पड़ जाएं। musalmanon ko iftaar party nahi dunga