क्या बिना मुस्लिम समर्थन के यूपी में बीजेपी की इतनी बड़ी जीत संभव है !




पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने हाल ही में सम्पन्न हुए पांच राज्य के विधान सभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत हासिल की है। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने प्रचंड बहुमत प्राप्त की। इसके अतिरिक्त उत्तराखंड में भी बीजेपी को ऐतिहासिक जीत मिली। हालांकि, मणिपुर में बीजेपी सरकार बनाने के जादुई आंकड़े से महज कुछ कदम दूर रह गयी। ऐसी संभावना है कि निर्दलीय की सहायता से बीजेपी मणिपुर में भी सरकार बनाने में सफल होगी। वही गोवा में मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में निर्दलीय और अन्य बीजेपी सहयोगी काम करने को राजी है। ऐसे में यूपी, उत्तराखंड और गोवा में बीजेपी की सरकार बन चुकी है। मणिपुर में बीजेपी सहयोगी पार्टी के संपर्क में है। muslim voters love pm modi 

वही एकलौता राज्य पंजाब पर कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिली है। विशेषज्ञों की माने तो बीजेपी पंजाब पर भी जीत हासिल कर सकती थी लेकिन अमित शाह और पीएम मोदी ने पूरा ध्यान यूपी पर दिया। जिस कारण पंजाब बीजेपी के हाथ से निकल गयी। हालांकि, यूपी विजय इस बात का संकेत है कि आगामी 2019 लोक सभा चुनाव में बीजेपी फिर से बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। उमर अब्दुल्लाह का ब्यान सत्य साबित हो सकता है। जिसमें उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी 2019 में भी लगातार दूसरी बार देश के पीएम बनेंगे। muslim voters love pm modi 

देश बदल रहा है

वही इस बीच जो अहम बात मीडिया के माध्यम से बाहर आ रही है वो विपक्षी नेताओं की बयानबाजी है। एक ओर जंहा बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि पीएम मोदी ने दादागिरी की है और सभी बूथों के EVM मशीन में गड़बड़ी पैदा कर दी थी। जिससे हर वोट बीजेपी को गया। वही कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने कहा कि पीएम मोदी देश की सम्पत्ति का दुरपयोग कर रहे है। पैसे के दम पर बीजेपी ने वोट को खरीद लिया है। जिस कारण सपा और कांग्रेस गठबंधन को हार का सामना करना पड़ा। जबकि सपा ने इसे घमंड का परिणाम बताया। शिवपाल यादव ने कहा” ये तो होना था घमंड के कारण सपा और कांग्रेस की गठबंधन हारी है ” . muslim voters love pm modi 

जबकि चुनाव परिणाम के बाद बड़ा सवाल ये उठा है कि क्या वाकई में बीजेपी ने पैसे को दुरपयोग किया है, या वाकई में दलित और मुस्लिम वोटरों ने पीएम मोदी को वोट दिया है ? क्योंकि दलित और मुस्लिम वोट के बिना बीजेपी को इतनी बड़ी जीत हासिल नहीं हो सकती थी ?

बीजेपी के एम जे अकबर की माने तो पीएम मोदी की स्वच्छ छवि और विकास मुद्दे कार्यशैली के लिए उन्हें मुस्लिमों और दलितों ने वोट दिया है। जिस तरह से पीएम मोदी ने एशिया सहित दुनिया के विभिन्न मुस्लिम देशों का दौरा किया है और वंहा के स्थानीय मुस्लिमों को देश से जोड़ने की कोशिश की है। वो सफल रही है। इससे पूर्व देश के किसी पीएम ने ढाई साल के कार्यकाल में इतने मुस्लिम देश का दौरा नही किया है।

देश विकास की मार्ग पर अग्रसर है

यदि आप नजर दौड़ाएंगे तो पता चलता है कि पीएम मोदी को मुस्लिम देशों भी मान, सम्मान मिला है। फिर चाहे वो सऊदी अरब का दौरा हो, या फिर ईरान का दौरा हो। सभी जगहों पर पीएम मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया गया। सऊदी अरब में वो पल तो दर्शनीय रहा, जब पीएम मोदी के साथ सेल्फी लेने के लिए मुस्लिम बुरका से बाहर आ गयी। ऐसा बहुत कम अवसर पर देखा जाता है। वही सऊदी अरब और ईरान के बीच कटुता के बाबजूद पीएम मोदी का ईरान दौरा काबिलेतारीफ रहा। इससे न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी पीएम मोदी की सराहना की गयी। पीएम मोदी ने हर एक छोटी चीज़ को ध्यान में रखकर देश का नेतृत्व किया। जिसका परिणाम है की आज यूपी फतह इतनी बड़ी मार्जिन से हुआ है। muslim voters love pm modi 

उमर अब्दुल्ला ने की मोदी की जमकर तारीफ कहा मोदी देश के आधुनिक गाँधी है !

ये सच है कि यूपी विधान सभा चुनाव में पीएम मोदी के एक भारत, श्रेष्ठ भारत आह्वान को मुस्लिम और दलितों ने स्वीकार कर बीजेपी को वोट दिया। इससे पूर्व बसपा और सपा ने केवल विकास और धर्म के नाम पर यूपी के लोगों को ठगा है लेकिन पीएम मोदी ने इस सबसे ऊपर उठकर देश को संगठित करने की कोशिश की है। जिसे मुस्लिम वर्ग और दलित वर्ग के लोग अच्छी तरह से समझ चुके है। हालांकि, कुछ जानकर एम जे अकबर के बयान से सहमत नहीं है लेकिन बिना मुस्लिम और दलित वोट के यूपी विजय करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। खासकर, मुस्लिम और दलित महिला ने गुप-चुप तरीके से बीजेपी को वोट दिया है। muslim voters love pm modi 

बता दें कि मोदी सरकार ने मुस्लिम महिला के हित में अनेकों योजना का कार्यान्वन किया है। जिसमें तीन तलाक प्रमुख है। तीन तलाक को लेकर मुस्लिम महिला आंतरिक रूप से मोदी सरकार के समर्थन में है। जिसे वो एक्सपोज़ नहीं की है। वही दलित महिला महाराष्ट्र और झारखण्ड में महिला को मिल रहे सेवा और सुविधा से वाकिफ है। दूसरी तरफ, सपा और बसपा ने अब तक दलित और मुस्लिम का महज वोट बैंक के लिए इस्तेमाल किया है। जिसे दलित महिला और दलित समाज अच्छी तरह से समझ चुकी है। वही लखनऊ एनकाउंटर के बाद जिस तरह से आतंकी सैफुल्लाह के पिता और परिवार ने बयान दिया है। उससे साफ़ जाहिर है की देश बदल रहा है। देश विकास की मार्ग पर अग्रसर है। जंहा तक राहुल गाँधी और मायावती का बयान निराधार और बेबुनियाद है। muslim voters love pm modi 
( प्रवीण कुमार )