अमरनाथ यात्रा को सफल बनाने में मुसलमानो की हैं भूमिका





अमरनाथ यात्रा पर आतंकवादी हमले के बाद ऑल इंडिया रेडियो लगातार भरोसे कायम रखने के लिए कई कार्यक्रम प्रसारित कर रहे हैं। अमरनाथ यात्रा में मुस्लिमों के योगदान को भी बताया जा रहा है।ऑल इंडिया रेडियो आज भी देश के अहम माध्यम है खासकर पहाड़ी इलाकों में। अमरनाथ यात्रियों पर जब आतंकवादी हमले हुए तो ऑल इंडिया रेडियो ने तत्परता के सात कई कार्यक्रम पेश किए जिसमें कश्मीर में प्यार और भरोसे के रिश्ते को कायम रखने की बात की गई। ऑल इंडिया रेडियो ने कार्यक्रम को छह भाषाओं में उर्दू, कश्मीरी, डोगरी, गोगरी, पहरी और हिंदी में प्रसारित कर रही है। इसमें यह भी बताया जा रहा है कि आतंकवादियों के प्रति कश्मीरियों का कितना गुस्सा है। जब आतंकवादियों ने अमरनाथ यात्रियों पर हमले किए उसके एक दिन बाद ही यह बताया गया कि एक मुस्लिम ने ही सालों से इसकी देखरेख और रख रखाव मुस्लिम ही करते रहे हैं। यह भी बताया गया कि कई स्थानीय मुस्लिम नागरिक ही अमरनाथ यात्रियों की मेजबानी उनके आने जाने की व्यवस्था और अन्य गतिविधि में उनके साथ ही शामिल होते हैं। muslims helps hindu amarnath devotees

अमरनाथ आतंकी हमले के बाद अधिकारी हुए रवाना

ऑल इंडिया रेडियो के एक विशेष कार्यक्रम में यह बताया गया है कि करीब बीस हजार मुस्लिम अमरनाथ जाने के रास्ते में तीर्थ यात्रियों का पूर्ण सहयोग करते हैं। जिसमें तो सात हजार ऐसे लोग है जो घोड़ो के जरिए यात्रियों को आगे ले जाते हैं। जब भी मौसम खराब होता है तो ऐसे में स्थानीय मुस्लिम ही सबसे पहले उनका सहयोग करने के लिए आगे आते हैं। बाल टाल बेस कैंप में तो ऐसा माहौल देखा जा सकता है। ऑल इंडिया रेडियो के खास कार्यक्रम में यह बताया गया कि हर वर्ष हजारों मुस्लिम अमरनाथ यात्रा का हिस्सा बनते हैं। जिसमें मुस्लिम घोड़े, पालकियां और अन्य सेवाएं उपलब्ध कराते हैं। मुस्लिम युवा ही बुर्जुग यात्रियों को चंदनवाड़ी से आगे गुफा तक पालकी तक बैठाकर ले जाते हैं। जिस प्रकार से यात्रियों पर हमला हुआ है इसकी निंदा पूरे प्रदेश में हो रही है। यह पूरी तरह से मानवता पर हुआ हमला है। ऑल इंडिया रेडियो ने कश्मीरी शैव संप्रदाय और ऋषियत की भी बात की। इसमें यह बताया गया कि आस्था और अध्यात्म से भरपूर इस संप्रदाय और इस्लाम के बीच कई एक जैसी बातें हैं। इस बार पर भी जोर दिया गया कि इस्लाम दूसरे धर्म के लोगों पर हमले को निंदनीय मानता है। muslims helps hindu amarnath devotees