यूपी में मोदी और शाह के इशारे पर दंगे होते है : आजम खान



भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने आज उत्तर प्रदेश में कई रैली को सम्बोधित किया। अपने सम्बोधन में अमित शाह सत्ताधारी सरकार पर जमकर बरसे। next year uttar pradesh election 

उन्होंने अखिलेश सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि यूपी में साढ़े तीन मुख्यमंत्री है। जिसमें एक खुद अखिलेश है, दूसरे मुलायम सिंह यादव है। जबकि तीसरा शिवपाल है और आधे आजम खान है। आप सोचो भला जंहा साढ़े तीन मुख्यमंत्री का शासन हो। भला उस जगह का कल्याण कैसे हो सकता है। next year uttar pradesh election 

अमित शाह ने आरोप लगाते हुए कहा कि आज यूपी से लोग पलायन कर रहे है। सरकार कहती है कि राज्य में कम्युनल नहीं है तो फिर क्या है। ये सब लॉ एंड आर्डर की प्रॉब्लम है। यदि समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो राज्य में जीना दूभर हो जाएगा।आज राज्य में ये स्थिति है कि घुस लेने और देने पर ही आपका काम होता है। next year uttar pradesh election 

यूपी में साढ़े तीन मुख्यमंत्री है next year uttar pradesh election 

अल्पसंसख्यक के नाम पर राज्य को बांटा जा रहा है, राज्य में दंगे फैलाए जा रहे है। इसके जिम्मेवार सपा और बसपा है। जब तक राज्य से सपा, बसपा के परिवार वाद का अंत नहीं होगा। तब तक राज्य का विकास नहीं होगा।

राज्य सरकार कहती है बीजेपी मथुरा को मुद्दा बना रही है। जबकि इसके लिए अखिलेश सरकार को खुद शर्म से मर जाना चाहिए। राज्य में ऐसे अनेकों वारदात हुए जिससे राज्य सरकार की विफलता का पोल खुल गया है।

अमित शाह ने अपने भाषण में कहा कि मोदी जी ने गुजरात में बहुत विकास कर लिया है। अब बनारस की बारी है। अतः मोदी जी अब बनारस के हो गए है। मोदी सरकार ने अब तक 4 लाख करोड़ रूपये बनारस के विकास के लिए दिए है। लेकिन दुर्भाग्य कहिये कि इसमें से चार रूपये का भी विकास बनारस में नहीं हुआ है। next year uttar pradesh election 

योगी लाओ, यूपी बचाओ

अब आप सबको सोचना है कि आपको प्रदेश में किया चाहिए। विकास या गुंडागर्दी ? यूपी में बदलाव की जरुरत है वो जरुरत बीजेपी है। जब तक यूपी का विकास नहीं होगा, तब तक देश का विकास नहीं होगा। देश और प्रदेश का विकास करना है तो राज्य सरकार को उखाड़ फेकिये। next year uttar pradesh election 

अमित शाह के इस तूफानी भाषण को सुनने के लिए भारी तादात में लोग आये हुए थे। लोगों के इस भीड़ से एक बात तो स्प्ष्ठ है कि प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है। परन्तु इसके लिए बीजेपी को अतयधिक मेहनत करनी होगी। next year uttar pradesh election