अपराधी कभी नहीं बचते चाहे किसी भी ओहदे का हो





सुप्रीम कोर्ट ने आज नितीश कटारा हत्याकांड में दोषी विकास यादव को 25 साल की सजा सुनाई है वही विकास के सहयोगी सुखदेव पहलवान को भी 20 साल की सजा सुनाई है। इससे पहले हाई कोर्ट ने विकास और सुखदेव को 25 साल सजा और सबूत मिटाने के लिए 5 साल की अतिरिक्त सजा काटने की सजा सुनाई थी। जिसके लिए विकास यादव ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसे आज सुप्रीम कोर्ट स्वीकार कर लिया। सुप्रीम कोर्ट ने आज याचिका पर सुनवाई करते हुए विकास, विशाल और सुखदेव की सजा में राहत दी है।  nitish katara murder case justice 

क्या है पूरा मामला nitish katara murder case justice 

आपको बता दें कि नितीश कटारा रेलवे अधिकारी के बेटे थे जबकि विकास और विशाल उत्तर प्रदेश के बाहुबली डी पी यादव के बेटे है जबकि भारती इनकी बहन है। दोनों भाई भारती के कटारा के साथ दोस्ती से नाखुश थे और ये दोनों चाहते थे कि कटारा को उसकी बहन के साथ कोई रिश्ते और सम्बन्ध न रहे। इस बाबत इन दोनों ने कटारा को चेतावनी भी थी। कटारा के न मानने के बाद इन दोनों भाइयों ने पहलवान सुखदेव की मदद से कटारा की हत्या कर दी थी। nitish katara murder case justice 

हाई कोर्ट का फैसला nitish katara murder case justice 

नितीश कटारा हत्याकांड में निचली अदालत ने 2008  विकास और विशाल के साथ सुखदेव पहलवान को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। जिसके खिलाफ विकास और विशाल ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। हाई कोर्ट अप्रैल ने 2014 निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखते हुए दोनों भाइयों सहित सुखदेव पहलवान को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। nitish katara murder case justice 

मंच छोड़कर भागे राहुल यूपी में हो रही है किरकिरी

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से एक चीज़ साफ़ जाहिर है कि जुल्म करने वाले की खैर नहीं, फिर चाहे वो आम आदमी हो या फिर किसी भी ओहदे का हो। कानून सबके लिए बराबर है और जो भी कानून के नियमों का उल्लंघन करता है उसे बख्शा नहीं जाएगा। nitish katara murder case justice 

( प्रवीण कुमार )