तू गद्दार है पता नहीं कब मोदी से मिलकर मुझे जेल में डलवा देगा : लालू यादव




जदयू ने राजद की अपील को ठुकरा दी है और यूपीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को अपना समर्थन जारी रखा रखने पर अडीग है। राजद ने जदयू से अपने फैसले पर फिर से विचार करने को कहा था। जदयू बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा है कि राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को समर्थन का फैसला सोच समझकर लिया है। इसे बदला नहीं जाएगा। nitish kumar iftaar party 

नरेंद्र मोदी के कार्यों का समर्थन है

पार्टी ने सभी एमएलए, सांसद, कोर कमेटी के सदस्यों और अन्य नेताओं से बात करने के बाद कोविंद को समर्थन दिया है। इस फैसले से पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता है। जदयू ने अपने फैसले को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राजद सुप्रीमो लालू यादव को पहले ही दे दी थी। गौरतलब है कि नीतीश कुमार ने सबसे पहले सोनिया गांधी से मुलाकात कर अपने उम्मीदवार तय करने की पहल की थी। nitish kumar iftaar party 

लेकिन कांग्रेस ने देर से निर्णय लिया इसके पहले एनडीए ने अपने उम्मीदवार तय कर दिए जिसका समर्थन नीतीश कुमार ने विधायकों की बैठक के बाद ले लिया। हालांकि उसके बाद 17 दलों के साथ बैठककर सोनिया गांधी ने मीरा कुमार को अपना राष्ट्रपति उम्मीदवार तय किया लेकिन तब तक देर हो चुकी थी और जदयू अपना समर्थन एनडीए को देना जारी रखा। nitish kumar iftaar party 

राजद सुप्रीमो लालू यादव ने नीतीश कुमार से फासीवादी ताकतों के खिलाफ एकजुट होने को कहा और यह अपील की वे अपने फैसले को बदले। जो देश हित में होगा।वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि रामनाथ कोविंद की छवि बेदाग रही है और वे कुशल प्रशासक हैं। इसलिए उनको समर्थन देना सही है। लेकिन इस समर्थन से महागठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है। nitish kumar iftaar party 

मैं हिन्दू हूँ इसलिए केजरीवाल के इफ्तार पार्टी में नहीं गया : कुमार विश्वास

गौरतलब है कि बिहार में जदयू, राजद और कांग्रेस की महागठबंधन की सरकार है। जदयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव ने कहा कि देशहित में सभी राजनीतिक दलों को अपने स्तर से फैसला करने का पूरा अधिकार है। राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन देने का यह मतलब नहीं है कि नरेंद्र मोदी के कार्यों का समर्थन है। nitish kumar iftaar party