जाधव को पकड़कर सेना ने मेरे नाक में दम कर दिया है !




कुलभूषण जाधव मामले में लगातार पाकिस्तान की किरकिरी हो रही है। अब उन्हीं के पूर्व अफसर पाकिस्तान के पोल खोल रहे हैं। कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान के उस दावे को उन्हीं के पूर्व आर्मी अफसर ने हवा निकाल दी है। पाकिस्तान बार बार यह कह रहा है कि कुलभूषण पाकिस्तान में पकड़ा गया था लेकिन पाकिस्तान के पूर्व आर्मी अफसर जनरल अमजद शोएब ने माना है कि कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में नहीं बल्कि ईरान में पकड़ा गया था। pak army kidnapped jadhav iran 

पाकिस्तान की पोल खोला जा सके

कुलभूषण को ब्लूचिस्तान में फर्जी गिरफ्तारी दिखाई गई है। भारत इसे सबूत के तौर पर अगली सुनवाई में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में पेश कर सकता है। पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव पर जासूसी और आतंकवाद बढ़ावा के आरोप लगाया था। पाकिस्तान का आरोप है कि कुलभूषण का असली मकसद कराची और ब्लूचिस्तान में आतंक फैलाना था। पाकिस्तान ने झूठे बयान और फर्जी गिरफ्तारी दिखाकर कुलभूषण को पाकिस्तान मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुना दी है। pak army kidnapped jadhav iran 

पाकिस्तान में जर्मनी के पूर्व राजदूत गुंटर मुलक भी कह चुके हैं कि जाधवको ईरान से तालिबान ने अगवा दिया और उसके बाद आईएसआई को बेच दिया था। ऐसा नहीं है कि पाकिस्तान सरकार की ओर से जाधव की गिरफ्तारी पर भी कहा गया था कि इनके खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं हैं। pak army kidnapped jadhav iran 

कुलभूषण जाधव के फांसी पर रोक लगा दी है

प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेशी मामलों के सलाहकर सरताज अजीज ने संसद में यह बात कही थी। साफ है कि सेना और सरकार भी इस मामले में आमने सामने है। बिना सबूत के ही पाकिस्तान मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुना दी। भारत जब इस मामले को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ले गया तो वहां भी पाकिस्तान को वहां भी मुंह की खानी पड़ी। पाकिस्तान के सबूत को पुख्ता नहीं माना अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने। pak army kidnapped jadhav iran 

दम है तो मुझे जीप के आगे बांध कर दिखाओ, पुरे देश को तबाह कर दूंगा : असदुद्दीन ओवैसी

कुलभूषण जाधव के फांसी पर रोक लगा दी है। अब पाकिस्तान दोबार अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में अपील कर रहा है भारत की ओर से पाकिस्तान को करारा जवाब दिया जाएगा जिसके लिए इन्हीं के पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल अमजद शोएब के बयान को रखा जाएगा। जिससे कि पाकिस्तान की पोल खोला जा सके। pak army kidnapped jadhav iran