मोदी के गुप्त दूत ने नवाज शरीफ से की गुप्त मीटिंग कहा जाधव की जल्द होगी घर वापसी





पाकिस्तान में अभी एक बार फिर उद्योगपति के मुलाकात से राजनीति गरमा गई है। इस उद्योगपति को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दूत कहा जा रहा है। भारत पाकिस्तान में अभी कुलभूषण जाधव को लेकर काफी तनाव हो गया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और भारतीय कारोबारी सज्जन जिंदल के बीच हुए मुलाकात को पाकिस्तान मीडिया इसे नरेंद्र मोदी द्वारा भेजे गए दूत बता रहा है और कह रहा है कि यह गुप्त मीटिंग था जिसको प्रधानमंत्री नवाज शरीफ गुप्त रखने की कोशिश में थे। pak media slams nawaz sharif 

जाधव को पाकिस्तानी मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है

पाकिस्तान मीडिया का आरोप है कि सज्जन जिंदल ने पाकिस्तान वीजा नियमों का उल्लंघन किया है। वही नवाज शरीफ की बेटी मरियम शरीफ ने कहा है कि यह मुलाकात गुप्त नहीं थी बल्कि दोस्ताना मीटिंग थी जिसपर राजनीति नहीं होनी चाहिए। pak media slams nawaz sharif 

गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं है कि सज्जन जिंदल को लेकर राजनीति गरमाई है। इसके पहले 2015 से ही जब भी नवाज शरीफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात हुई है उसमें जिंदल की भूमिका रही है। जिसको लेकर काफी सवाल किए गए। अब जब शंघाई सम्मेलन जून में होने जा रही है। pak media slams nawaz sharif 

ऐसा माना जा रहा है कि पाकिस्तान प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से वहां नरेंद्र मोदी की मुलाकात होगी। जिसके लिए एजेंडा तय करने के लिए जिंदल की मुलाकात हुई है। गौरतलब है कि जब से कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है उसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव लगातार बढ़ गए हैं और किसी भी हालत में भारत उनकी फांसी की फैसले को वापसी चाहता है। pak media slams nawaz sharif 

मोदी गर इजाजत दे तो पाकिस्तान में घुसकर हाफिज सईद को मौत के घाट उतार दूँ :रॉड्रिगो दुतेर्ते

इसके लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भारत में पाकिस्तान राजनयिक को बोलकर ऐतराज भी कर चुके हैं और कूटनीति के तहत कई मुस्लिम राष्ट्रों से बात भी की है। लेकिन पाकिस्तान में कुछ राजनीति दल ने फांसी का विरोध किया है जबकि कुछ ने सही बताया है। जिसको लेकर राजनीति गरम है ऐसे में सज्जन जिंदल का मिलना काफी मीडिया को मसाला दे गया है जिसको लेकर चर्चा है। सज्जन जिंदल पाकिस्तान पहुंचने के बाद सीधे प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मिले जिसमें पुलिस को भी नहीं बताया गया। हालांकि यह कहा जा रहा है कि पुलिस के मसले में उन्हें छूट दी गई है। pak media slams nawaz sharif