मौत को मात देकर भारत लौटे सेना के जवान चंदू चव्हाण




सर्जिकल स्ट्राइक के दो दिन बाद ही गलती से लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल पार करने वाले भारतीय जवान चंदू चव्हाण को पाकिस्तान ने रिहा कर दिया है। इससे पहले, पाकिस्तान सरकार ने आधिकारिक बयान जारी करके चंदू चव्हाण के रिहा की घोषणा की थी। पाक ने चंदू चव्हाण को वाघा सीमा पर भारत को सौपा। pakistan freed solider chandu chvhan 

चंदू के गांव में जश्न का माहौल है

पाकिस्तान ने आरोप लगाया कि चंदू चव्हाण अपने सीनियरों के गलत बर्ताव से नाराज होकर लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल पार कर पाकिस्तान चला आया था। पाकिस्तान की तरफ से आधिकारिक घोषणा में कहा गया कि 29 सितम्बर को चंदू चव्हाण जानबूझकर लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल पर कर पाकिस्तान सेना के सामने सरेंडर कर दिया था। pakistan freed solider chandu chvhan 

दीपक मिश्रा बन सकते है दिल्ली के नए पुलिस आयुक्त !

ज्ञात रहे कि दोनों देशों के डीजीएमओ की बातचीत हाल ही में हुई थी जिसमें चंदू चव्हाण की रिहाई की बात कही गयी थी। दोनों पक्षों की सहमति पर पाक ने चंदू चव्हाण को शनिवार को रिहा कर दिया। गौरतलब है कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद ऐसी खबर आयी थी कि पाकिस्तानी सेना ने भारतीय सेना के एक जवान का अपहरण कर लिया है। भारतीय सेना ने इसी पुष्टि भी की थी। हालांकि, भारतीय सेना ने अपहरण होने के बात का खंडन किया था। उस समय भारतीय सेना के डीजीएमओ ने पाकिस्तानी सेना को सूचना दी गई थी। pakistan freed solider chandu chvhan 

तत्काल परिवेश में यदि सेना का जवान गलती से लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल पार कर जाता है तो उन्हें मौजूदा कानून के तहत वापस भेज दिया जाता है। पाकिस्तानी सेना द्वारा चंदू को पकड़े की खबर सुनने के कारण चंदू के दादी की मृत्यु हो गई थी। चंदू चव्हाण महाराष्ट्र का रहने वाला है। चंदू चव्हाण के लौटने की खबर से न केवल चंदू के गांव में बल्कि पुरे देश में जश्न का माहौल है। pakistan freed solider chandu chvhan