पीएम मोदी की शानो-शौकत पर प्रति सेकंड बीस हजार रुपए खर्च होते है !




झारखंड सरकार ने ऐसे कारनामे कर दिए हैं जिसके बाद वे प्रधानमंत्री कार्यालय के निशाने पर आ गए हैं। अब उन्हें खर्चे का जवाब देना होगा जिसके चपेट में सरकार के कई अधिकारी आ सकते हैं। झारखंड के मुख्यमंत्री पर रघुवर दास इस बार फंस सकते हैं। pm modi jharkhand visit 

pm modi jharkhand visit ऱघुवर को रघु ही बचाएं

वैसे भी उनके कामकाज को लेकर पार्टी के भीतर भी खेल कम नहीं है। इधर छह अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी साहेबगंज में गंगा नदी पर मल्टी मोडल टर्मिनल का शिलान्यास करने के लिए झारखंड गए थे। प्रधानमंत्री का हर दौरा किसी न किसी राजनीतिक कारणों से होता है जो उसमें संदर्भित छिपा होता है तो यहां भी था। pm modi jharkhand visit 

इस दौरे के पीछे लिट्टीपाड़ा विधानसभा चुनाव को भी प्रभावित करना था। प्रधानमंत्री दौरे के बाद भी भाजपा यह चुनाव हार गई। जिससे पहले ही रघुवर दास निशाने पर हैं वहीं इस प्रधानमंत्री के दौरे पर नौ करोड़ रुपए खर्चे किए गए। जिसको लेकर सरकार कठघरे में आ गई। जबकि प्रधानमंत्री मात्र सवा घंटे ही झारखंड में रुके थे।

यह साफ हो गया कि प्रधानमंत्री के झारखंड दौरे के प्रति सेकंड खर्च करीब बीस हजार रुपए का आया। झारखंड सरकार ने इस बिल को प्रधानमंत्री कार्यालय भेज दिया गया। जिसको लेकर पीएमओ नाराजगी जाहिर किया और इस खर्च का ऑडिट रिपोर्ट मांगा गया है। इस बिल में 44 लाख के भोजन का भी बिल शामिल है और इसमें शहर के रंग रोगन का भी बिल है। जो प्रधानमंत्री के आने के पहले किया गया था। pm modi jharkhand visit 

रघुवर दास सरकार ने जो यह कारनामे किए हैं इसको लेकर वे अब विरोधियों के निशाने पर हैं क्योंकि वे पहले भी पार्टी के भीतर के खेल में उलझे हैं। दरअसल रघुवर दास के कामकाज में यह पहली बार नहीं है कि ऐसी गलती हो रही है। इसके पहले निवेश को रिझाने के लिए दिल्ली के मेरिडियन में शानदार दो दिनों का कार्यक्रम हुआ लेकिन जो बुकलेट छपकर आया था उसमें कई ऐसी गलतियां थी जिसको लेकर सरकार को शर्मसार होना पड़ा। pm modi jharkhand visit 

यदि मैं जय श्री राम बोलूंगा तो योगी जी अयोध्या में राम मंदिर नहीं बनवाएंगे !

इस समय जब रघुवर पत्रकारों को कह रहे थे कि आप केवल झारखंड के नक्सलियों को मत छापिए तो पत्रकारों ने यह दिखाया कि हम क्या छापे आपने ही बुकलेट में कई ऐसी चीजें छापी है जिसका जवाब वे नहीं दे सके। इस बार तो उन्होंने पीएमओ को ही नाराज कर दिया है अब तो ऱघुवर को रघु ही बचाएं। pm modi jharkhand visit 




गोरापन बढ़ाने का अचूक नुस्खा