जून में पीएम मोदी और शरीफ होंगे आमने-सामने




कुलभूषण जाधव मामले के तनाव के बीच अब पाकिस्तान हल करने को राजी नजर आ रहा है। वह अब किसी भी तरह से भारत से बातचीत करने को तैयार है। भारत-पाक के बीच तनाव बढ़ने के बाद अब पाकिस्तान मसले का हल चाहता है। यह कोशिश कर रही है कि किसी भी तरह से भारत से बातचीत हो। pm modi will meet nawaz sharif 

कुलभूषण जाधव की मौत की सजा मुकर्रर हुई

पाकिस्तान मीडिया में कही जा रही है कि भारत पाक शंघाई सहयोग संगठन में अलग से बातचीत कर सकता है। जिसकी बैठक जून में है। इसमें भारत और पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता दी जाएगी। गौरतलब है कि इस संगठन में रूस और चीन दो ताकतवर देश हैं। हालांकि भारत ने इस तरह की खबरों को नकारा है। pm modi will meet nawaz sharif 

भारत ने साफ कहा है कि दोनों देशों के बीच वार्ता में तीसरे देश को शामिल तो किया ही नहीं जा सकता। गौरतलब है कि जून में काजिकिस्तान के अस्ताना में शंघाई सहयोग संगठन की बैठक होगी। भारत ने साफ कहा है कि वह किसी के दवाब में नहीं है। कुलभूषण जाधव मामले के बाद भारत ने समुद्री सुरक्षा के लिए 17 अप्रैल की बैठक को भी टाल दिया। भारत ने साफ किया है कि आतंक के माहौल में बातचीत संभव नहीं है। pm modi will meet nawaz sharif 

दरअसल कुलभूषण जाधव के मामले को भारत ने संजीदा के साथ लिया जिसके बाद पाकिस्तान पर दबाव पड़ा है। भारत ने कूटनीति के स्तर पर कई मुस्लिम राष्ट्रों से संपर्क साधा जिसके बाद पाकिस्तान पर दबाव पड़ता गया। पाकिस्तान अब नहीं चाहता है कि जासूस मामले ज्यादा तूल पकड़े जिससे बातचीत में खलल पैदा हो। pm modi will meet nawaz sharif 

मुस्लिमों की खातिर मैं भी वंदे मातरम और भारत माता की जय नहीं बोलूंगा : राहुल गाँधी।

गौरतलब है कि उरी और पठानकोट हमले के बाद दोनों देशों के बीच पिछले साल बातचीत शुरू करने की पहल हुई थी। यहां तक कि सिंधु नदी मामले में भारत का एक शिष्टमंडल पाकिस्तान भी गया था। लेकिन जैसे ही कुलभूषण जाधव की मौत की सजा मुकर्रर हुई उसके बाद भारत ने किसी भी तरह की बातचीत को साफ तौर पर नकार दिया है। अब जब शंघाई सहयोग समिति की बैठक होने वाली है जब तक दोनों देशों के हालात सामान्य नहीं होंगे बातचीत होना असंभव सा प्रतीत हो रहा है। pm modi will meet nawaz sharif