8 जुलाई को लेकर कश्मीर में कई अलगाववादी नेता को सेना ने किया गिरफ्तार





बुरहान की बरसी पर कश्मीर में हिंसक प्रदर्शनों की आशंकाओं के मद्देनजर संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। कश्मीर में स्थानीय कट्टरपंथी सेना को नजरबंद कर दिया गया है। ताकि कानून व्यवस्था बनाकर रखा जा सके। कश्मीर घाटी में 08 जुलाई को मद्देनजर कड़े प्रबंध किए हैं ताकि कोई ऐसी घटना न घटे जिससे कानून व्यवस्था को तोड़ा जा सके। police arrest yasin malik   

police arrest yasin malik अलगाववादी नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है

गौरतलब है कि पिछले साल 08 जुलाई 2016 को हिज्जबुल कमांडर बुरहान वानी को सेना ने कड़े मुठभेड़ में मार गिराया था जिसके बाद से ही जम्मू कश्मीर में लगातार हिंसा की वारदाते हो रही हैं। बुरहान वानी की बरसी पर कश्मीर में भारी हिंसक प्रदर्शन होने की संभावना है। police arrest yasin malik  

इसी मद्देनजर सरकार ने अलगावादी नेता सैय्यद अली शाह गिलानी और मीरवाइज उमर फारूक को नजरबंद कर दिया गया है। यासिन को मायसूमा स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया गया है। वहीं गिलानी और मीरवाइज को उनके घरों में नजरबंद किया गया है। police arrest yasin malik  

मोदी के डर से ब्रिटेन ने बैन की वाणी की कहानी

बुरहान वानी के बरसी पर देश ही नहीं देश के बाहर ब्रिटेन में भी कई कार्यक्रम हो रहे थे जिसकी इजाजत दिया गया था। भारत के विरोध करने के बाद मानवाधिकार के नाम पर किए जा रहे कार्यक्रम को रद्द किया गया। police arrest yasin malik 

दूध के साथ कभी नमक या बैंगन तो नहीं खाया

गौरतलब है कि बुरहान वानी हिज्जबुल का पहला कमांडर था और उसने सोशल मीडिया पर हथियार लिए हुए फोटो अपलोड किए थे बाद में एक वीडियो भी जारी किया गया था जिसमें कहा गया था कि अमरनाथ यात्रियों पर हमले नहीं किए जाएंगें। police arrest yasin malik 

सेना के जबरदस्त मुठभेड़ के बाद बुरहान वानी मारा गया। और उसके बाद उसके कई साथ विभिन्न इलाकों में मारे गए। जब से बुरहान वानी मारा गया तब से कश्मीर घाटी में लगातार हालात बिगड़े हैं। सरकार लगातार प्रयास कर रही है प्रदेश में शांति व्यवस्था कायम रहे। इसी मद्देनजर अलगाववादी नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है। police arrest yasin malik 

loading…


<