प्रभु ने इस्तीफे की पेशकश की – मोदी ने कहा इंतजार करो




यूपी में हुई दो बड़े रेल हादसे को लेकर रेल मंत्री सुरेश प्रभ ने पूरी जिम्मेदारी लेते हुए पीएम नरेंद्र मोदी को इस्तीफा की पेशकश की है। सुरेश प्रभु ने ट्वीट करते हुआ कहा कि इन हादसों से हुई दुर्घटना से वे बहुत दुखी थे। जब उन्होंने पीएम मोदी को इस्तीफा की पेशकश की तो पीएम मोदी ने उनसे इंतजार करने के लिए कहा। आपको बता दे कि पहले उत्कल एक्सेप्रेस और कैफियत एक्सेप्रेस की दुर्घटना के बाद रेलवे प्रशासन पर लापरवाही के आरोप लग रहे है। यहां तक कि खुद सुरेश प्रभु आलोचकों के निशाने पर हैं।  prabhu ne estife ki peskash ki,modi ne kaha entajar karo
विपक्षियों ने उनका इस्तीफा माँगा है सुरेश प्रभु ने ट्वीट में ये भी बात कही है मैंने पीएम मोदी से मिलकर पूरी नैतिक जिम्मेदारी ली है।’
उन्होंने कहा, ‘मुझे इन दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं, यात्रियों के घायल होने और उनको हुए जानमाल के नुकसान को लेकर बहुत दुखी हूँ। आपको बता दे कि उन्होंने कहा की पीएम मोदी कि अगुआई में न्यू इंडिया को एक ऐसे रेलवे की जरूर है जो सक्षम और आधुनिक हो ,’उन्होंने  कहा की ‘मेरा विश्वाश है कि रेलवे उसी रस्ते पर आगे बढ़ रहा है।’prabhu ne estife ki peskash ki,modi ne kaha entajar karo
उन्होंने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी की लीडरशिप में दर्शकों से निकलने के लिए सभी क्षेत्रों में चरणबद्ध रिफॉर्म्स की कोशिश की,और उन्होंने अपनी ट्वीट में यह भी कहा की तीन साल से कम वक्त के दौरान रेलवे में बेहतरीन सुविधाओं के लिए मैंने कितनी मेहनत की है। prabhu ne estife ki peskash ki,modi ne kaha entajar karo
 




आपको को बता दे की इससे पहले, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने अपनी पद इस्तीफा दे दिया इसी बीच हुए दो हादसों के बाद रेलवे प्रशासन दबाव में हैं। शनिवार को मुजफ्फरनगर जिले के खतौली में कलिंग -उत्कल एक्सप्रेस हादसे का शिकार होने के कारण २२ लोगों की जान चली गई थी और २०० से ज्यादा लोग घायल हुए थे। इसी दौरान बुधवार को आजमगढ़ से दिल्ली को जाने वाली कैफियत एक्सेप्रेस हादसा सामने आई सूत्रों के मुताबिक जानकारी मिली कि बिना बताये पटरी की मरम्मत की जा रही थी। prabhu ne estife ki peskash ki,modi ne kaha entajar karo
तदुपरांत हुए हादसों से घिरने के बाद सुरेश प्रभु ने उत्कल ट्रेन एक्सीडेंट पर तय करने को कहा था आपको बता दे की रेलवे ने बड़ी कार्यवाई करते हुए नॉर्थ रेलवे के जीएम आरएन कुलश्रेष्ठ और दिल्ली रीजन के डीआरएम आर. एन. सिंह को छुट्टी पर भेज दिया था। वही कुछ अधिकारियों को सस्पेंड भी कर दिया गया, आपको बता दे कि पी-वे डिपार्टमेंट के जेई, एसएसई , सेक्शन के एईएन और दिल्ली के सीनियर डीईएन शामिल थे। वहीं, चीफ ट्रैक इंजीनियर भी तबादला कर दिया गया था। सुरेश प्रभु के इस्तीफे को स्वीकार किया जायेगा की नहीं ये तो फैसला होने के बाद ही पता चलेगा। prabhu ne estife ki peskash ki,modi ne kaha entajar karo