लगतार 27 चुनावों में हारने के कारण राहुल गाँधी सठिया गये है : विश्वजीत राणे




पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की जिस तरह से हार हुई है उसके बाद उसकी मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही है। एक के एक वरिष्ठ नेता कांग्रेस छोड़ रहे हैं। गोवा में एक विधायक जो कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए विश्वजीत राणे ने सीधे तौर पर कांग्रेस उपाध्यक्ष पर निशाना साधा है। इनका कहना है कि कांग्रेस नेतृत्व को आत्ममंथन करने की जरूरत है। rahul gandhi continue defeat record 

कांग्रेस के बुरे दिन जाने वाले नहीं हैं

आज कांग्रेस में जमीनी नेताओं जैसे सचिन पायलट को आगे लाने की जरूरत है। राहुल गांधी कांग्रेस को सही दिशा देने में विफल रहे हैं। आज कांग्रेस के कद्दावर क्षेत्रीय नेता भी अब इनका साथ छोड़ रहे हैं। इसलिए इन्हें मंथन करने की जरूरत है। विश्वजीत राणे ने कहा कि जिस प्रकार से राहुल गांधी अपने आसपास जिन लोगों को चुनते हैं वही बड़ी समस्या है। यहां तक कि खुद राहुल गांधी एक समस्या हैं। rahul gandhi continue defeat record 

राहुल गांधी कभी भी जमीनी नेताओं के साथ काम नहीं करते हैं जिससे वे कंफर्ट महसूस नहीं करते हैं। राहुल गांधी भरोसा नहीं कर पाते हैं। यहां तक रोल तय नहीं कर पाते हैं जिससे कोई भी फैसला नहीं ले पाता है। खास तौर पर राहुल गांधी के रवैये से आश्चर्य होता है ऐसे में कोई भी इनके साथ रहकर अपना करियर को खराब नहीं करेगा। मैं भी नहीं। rahul gandhi continue defeat record 

राहुल गाँधी चौकीदार बन करेंगे कांग्रेस पार्टी की रक्षा !

विश्वजीत राणे का साफ इशारा गोवा में हुए देरी से निर्णय के कारण ऐसा कहा। साफ तौर पर दर्शाता है कि राहुल गांधी की राजनीति में ज्यादा रूचि नहीं है। जिसकी वजह से आज कांग्रेस की यह दशा हो चुकी है। गौरतलब है कि अभी एक दिन पहले ही उत्तर प्रदेश में निकाले गए प्रवक्ता ने कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाए थे जिससे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अभी कांग्रेस के बुरे दिन जाने वाले नहीं हैं। और राहुल गांधी के नेतृत्व पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। rahul gandhi continue defeat record