राहुल गाँधी अभी मैच्योर नहीं है, उन्हें सीखने की जरूरत है: शीला दीक्षित




दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा, राहुल गाँधी अभी नहीं हुए है, उन्हें सीखने की जरुरत है। इसलिए कांग्रेस उपाध्यक्ष को थोड़ा और वक्त देने की आवश्यकता है। शीला दीक्षित का यह बयान बी एम सी चुनाव परिणाम आने के बाद आया है। महाराष्ट्र में नगर निगम के चुनाव में कांग्रेस की नैया पूरी तरह से डूब गयी। जिससे कांग्रेस हैरान और परेशान में है। rahul gandhi need experience 

टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए गए इंटरव्यू में शीला दीक्षित ने कहा कि कांग्रेस अभी बदलाव की दौर से गुजर रहा है। इसलिए जनादेश बीजेपी के पक्ष में है। इससे आहत होने की आवश्यकता नहीं है। समय के साथ सब कुछ ठीक हो जाएगा। इसका प्रमाण 2019 के चुनाव में आप सबको देखने के लिए मिलेगा। rahul gandhi need experience 

राहुल गाँधी ने बहुत कुछ सीखा है

पीएम मोदी पर उन्होंने कहा कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के बारे में जो बयान दिया गया। उनसे ये उम्मीद नहीं थी। एक जिमेवार इंसान से गैर जिम्मेदाराना बयान देना, पूरी तरह से अशोभनीय है।

एक प्रश्न के बारे में क्या राहुल गाँधी भविष्य में देश के पीएम बन सकते है ? उन्होंने कहा, इसमें दो राय नहीं है कि राहुल गाँधी में राजनीति है। क्योंकि ये राजनीति का ज्ञान उन्हें परिवारवाद से मिला है। लेकिन फिर भी हमें ध्यान रखना चाहिए कि राहुल गाँधी अभी 40 वर्ष के है। जिसे हम मैच्योर नहीं कह सकते है। इस उम्र में उनसे ज्यादा उम्मीद नहीं करना चाहिए। राहुल गाँधी को थोड़ा वक्त देने की आवश्यता है। rahul gandhi need experience 

पीएम मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी कर देश को धोखा दिया है : अखिलेश यादव

जिस पर टाइम्स ऑफ़ इंडिया के सवांददाता ने सवाल किया कि उन्हें और कितने वक्त देने की आवश्यकता है कि वो परिपक्व नेता बन जाए। शीला दीक्षित ने कहा, राहुल गाँधी ने बहुत कुछ सीखा है और आगे भी सीखते रहेंगे। वह पार्टी के सभी बैठको में जाते है तो सीखने की कोशिश करते है। राहुल गाँधी देश में अकेले शख्स है जो मजदूरो, ग्रामीणों, किसानों और वंचितों की बात करते है।  rahul gandhi need experience 
( प्रवीण कुमार )