राहुल गाँधी का नया अवतार गांधीगिरी या दादागिरी




मंदसौर में किसानों पर हुए पुलिस कार्रवाई के बाद राहुल गांधी भी कानून को धत्ता बताते हुए दिखाई दिए। राहुल गांधी की पुलिस से तूतू मैं मैं हुई। कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी मध्यप्रदेश में आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिवार से मिलने मंदसौर के लिए रवाना हुए थे। इस दौरान राहुल को मंदसौर में पुलिस ने नीमच में हिरासत में ले लिया। राहुल गांधी यहां आपा खो बैठे और पुलिस वाले पर गर्म हो गए। rahul gandhi new avatar 

मध्यप्रदेश में 2018 में विधानसभा चुनाव है

राहुल गांधी ने पुलिस पर चिल्लाते हुए कहा कि आप कैसे रोक सकते हैं हमें। यहां तक कि राहुल गांधी ने जिस तेवर से पुलिस को अपने गाड़ी के आगे से हटने को कहा वह काफी चर्चित हो गया। गौरतलब है कि मंदसौर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए नेताओं को वहां जाने से सरकार रोक रही है। rahul gandhi new avatar 

वहीं विपक्ष के नेता लगातार राजनीति करने पर तूले हैं। जिस प्रकार से राहुल गांधी ने पुलिस पर भौंए तानी यह सही नहीं माना जा सकता है। पुलिस को पूरी छूट है कि वे कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए नेताओं को रोके। rahul gandhi new avatar 

विपक्ष का काम है सरकार को जगाए रखना

राहुल गांधी का यह तेवर केवल इस घटना का राजनीतिक लाभ लेने का है इस कारण से आनन फानन में वहां पहुंच गए। जबकि कांग्रेस के कार्यकाल में इससे बड़ा किसानों पर हमले हुए। मुलतई में किसानों पर हमले को भला कौन भूल सकता है। rahul gandhi new avatar 

2019 से पहले ही मोदी को क्लीन बोल्ड कर हिमालय भेज दूंगा : लालू यादव

दरअसल विपक्ष का काम है सरकार को जगाए रखना। लेकिन जिस तरह से राहुल गांधी भूमिका निभा रहे हैं इससे तो यही प्रतीत हो रहा है कि किसी भी प्रकार से इस घटना का लाभ लेना चाह रहे हैं। क्योंकि केंद्र में किसान हैं। और इसे ही मुद्दा बनाकर सत्ता पाई जा सकती है। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में 2018 में विधानसभा चुनाव है। rahul gandhi new avatar