दलितों और मुसलमानो की रक्षा के लिए मैं अपनी जान दे सकता हूँ : राहुल गाँधी




सहारनपुर दंगे को लेकर राजनीति चरम पर है। कानून व्यवस्था के सवाल पर लगातार प्रशासन सावधानी बरत रही है लेकिन राजनेता वहां जाने से नहीं चूक रहे हैं। दलितों के घर खाना खाने को लेकर राहुल गांधी चर्चित रहे हैं। अब एक बार फिर दलितों की राजनीति में पीछे नहीं रहना चाहते हैं। राहुल गांधी को हेलिकॉप्टर लैंड के लिए हैलीपेड की इजाजत न दिए जाने के बाद सड़क मार्ग से ही रवाना हो गए। rahul gandhi saharanpur tour 

हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सहारनपुर के लिए सड़क मार्ग से रवाना हो गए हैं। पुलिस और जिला प्रशासन ने हेलिकॉप्टर की इजाजत नहीं दिए इसके बाद राहुल गांधी ने अपना दौरा टाला नहीं और उत्तर प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद और प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर के साथ रवाना हो गए हैं। ऐसा माना जा रहा है कि सहारनपुर पहुंचने पर प्रशासन से टकराव के हालात बन जाएंगें। rahul gandhi saharanpur tour 

राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के स्थानीय कार्यकर्ता भी हैं। राहुल गांधी पीड़ित परिवार से मिलेंगे जिनके घर उजाड़ व जला दिए गए हैं। गौरतलब है कि प्रशासन ने हिंसा प्रभावित इलाके में किसी को जाने की इजाजत नहीं दी है। प्रशासन कड़ी चेतावनी दी है कि अगर इजाजत के बिना कोई जाता है तो उसपर कड़ी कार्रवाई होगी। rahul gandhi saharanpur tour 

महाराणा प्रताप शोभायात्रा के दौरान हुए हिंसा हुआ।

प्रशासन की कड़ी चेतावनी के बावजूद भी दलितों की राजनीति करने में कोई पीछे नहीं रहना चाहता है। गौरतलब है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के हेलिकॉप्टर से जाने की इजाजत नहीं दी थी तो वे सड़क मार्ग से गई। उनके वहां से आते ही हिंसा फिर भड़क गई और एक व्यक्ति की मौत भी हुई। जिसके बाद प्रशासन ने सख्त कदम उठाया है और दंगें प्रभावित इलाके में किसी को जाने की इजाजत नहीं है। rahul gandhi saharanpur tour 

मोदी का दिमाग ख़राब हो गया है इसलिए वो कश्मीर में तानाशाही कर रहे है : पाकिस्तान

दलितों की राजनीति में कोई भी राजनीति दल पीछे नहीं रहना चाहता है इसलिए लगातार राजनेता वहां दौरे पर हैं जिससे स्थिति में तनावपूर्ण है। जिसको लेकर प्रशासन लगातार आगाह कर रहा है। शब्बीरपुर गांव में महाराणा प्रताप शोभायात्रा के दौरान हुए हिंसा हुआ। जिसमें राजपूत और दलितों के बीच हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। इसके बाद टकराव इतना बढ़ गया कि कई दलितों के घर जला दिए गए। दलितों की ओर से भीम आर्मी ने कमान संभाल लिया और लगातार माहौल खराब होते जा रहे हैं। rahul gandhi saharanpur tour