राजीव ने खुलवाए राम मंदिर के ताले अब राहुल बनवाएगा राम मंदिर





आगामी उत्तर प्रदेश विधान सभा के लिए कांग्रेस पार्टी प्रचार-प्रसार जोर-शोर से कर रही है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने दो दिन पूर्व किसान यात्रा की शुरुवात की है जो देवरिया से चलकर दिल्ली तक आएगी। इसी क्रम में राहुल गाँधी की किसान यात्रा आज अयोध्या के हनुमान गढ़ी मंदिर पहुंची, ये वही नगरी जंहा पर पिछले 27 साल से गाँधी परिवार का कोई सदस्य नहीं गया है। rahul gandhi visit ayodhya

आपको बता दें कि 1990 में दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी अयोध्या पहुंचे थे और उन्होंने ही राम मंदिर का ताला खुलवाया था किन्तु दुःख की बात है कि राजीव गाँधी के अयोध्या पहुचने के एक वर्ष पश्चात ही उनकी हत्या कर दी गई थी।1991 के बाद से अब तक गाँधी परिवार अयोध्या नगरी नहीं गया है । rahul gandhi visit ayodhya 

आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने 27 साल से गाँधी परिवार के अयोध्या न जाने के क्रम को तोड़ दिया है वो आज सुबह 10:30 बजे अयोध्या के हनुमान गढ़ी मंदिर पहुंचे, जंहा उन्होंने पूजा अर्चना कर सन्त ज्ञानदास से आशीर्वाद लिया। जब वो पूजा कर रहे थे उस समय कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि संत ज्ञानदास जी इन्हें पीएम बनने का आशीर्वाद दें। rahul gandhi visit ayodhya 

अखिलेश यादव ने कांग्रेस और सपा को साथ मिलकर चुनाव लड़ने के दिए संकेत !

हालांकि, संत ज्ञानदास ने आशीर्वाद तो दिया पर पीएम बनने के बारे में उन्होंने कहा कि वो संत है, केवल आशीर्वाद दे सकते है। किसी का बनना और सवरना विधि के हाथ में है। पूजा सम्पन्न करने के बाद राहुल गाँधी मंदिर से बाहर आये, पास में ही स्थित बाबरी मस्जिद स्थल पर राहुल गाँधी नहीं गये। राहुल गाँधी ने कहा कि अयोध्या यात्रा को राजनितिक रूप से पेश नहीं किया जाना चाहिए। rahul gandhi visit ayodhya 

राहुल गाँधी अब मस्जिद के बदले मंदिर जाने लगे है।  rahul gandhi visit ayodhya  

सुबह 11:15 बजे में राहुल गाँधी ने किसान यात्रा शुरू की, उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा, पीएम मोदी पर किसानों के कर्ज माफ़ी के लिए दबाब बनाएंगे ताकि किसानों को ऋण से छुटकारा मिल सके।

हालांकि, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी का अयोध्या जाना पूर्व नियोजित था पर अयोध्या में हनुमान गढ़ी मंदिर ही क्यों ? ये पेचीदा सवाल है। क्या कांग्रेस भी राम मंदिर बनाने के समर्थन में है ? क्या कांग्रेस, अन्य पार्टियों की तरह हिन्दू वोट बैंक बढ़ाना चाहती है ? क्योंकि पिछले चार राज्य के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस को मिली हार से ऐसा लगता है कांग्रेस कुछ सीखी है। जिस कारण अब कांग्रेस  मस्जिद के बदले मंदिर जाने लगे है। rahul gandhi visit ayodhya  
( प्रवीण कुमार )