केजरीवाल मेरे दामाद जैसा है इसलिए मैं उसका केस मुफ्त में लड़ूंगा : रामजेठमलानी




देश में वकीलों की कोई पहचान हैं तो राम जेठमलानी। इनकी खासियत यह है कि ये कभी भी पलटी ले सकते हैं। अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में कानून मंत्री रहे उन्हीं के खिलाफ चुनाव लड़ गए। राम जेठमलानी नेशनल हेराल्ज केस में सोनिया और राहुल गांधी की वकालत की और फिर पाला यह कहकर बदल दिया कि कांग्रेस राज्यसभा चलने नहीं दे रही लिहाजा सोनिया और राहुल की वकालत नहीं करेंगे। अपने बयान से अगर फिर पलट जाएं तो कोई आश्चर्य नहीं होगा। ramjeth malani hits arun jetli 

वे कोई विवादित केस उठाने में पीछे नहीं हटते

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर अरुण जेटली द्वारा दर्ज मानहानि के केस चल रहे हैं जिसको प्रसिद्ध वकील व राज्यसभा सदस्य राम जेठमलानी लड़ रहे हैं। राम जेठमलानी के फीस करीब तीन करोड़ रुपए हो गया है जिसे अरविंद केजरीवाल चाहते हैं कि दिल्ली सरकार जमा करें। ramjeth malani hits arun jetli 

हालांकि रामजेठमलानी इस केस को बिना फी के लड़ने को तैयार हैं उन्हें पता है कि यह क्लाइंट ऐसा है जिसके केस लड़ने भर से पैसे से ज्यादा नाम होगा। जो पहले से भी है। राम जेठमलानी किसी भी विवादित केस को लड़ने के लिए जाने जाते हैं। वे कभी पीछे नहीं हटते हैं। और जब प्रतिद्वंद्वी सामने अरुण जेटली हो तो। राम जेठमलानी इसके पहले भी कई बार चर्चा में रहे हैं। ramjeth malani hits arun jetli 

जिसमें उन्होंने कई ऐसे केस लड़े हैं जिससे कई तरह के विवाद थे। जिसको लेकर कई सवाल उठे थे। राम जेठमलानी साफ तौर पर जज को कह सकते हैं कि आपकी उम्र से ज्यादा समय तो मुझे काला कोर्ट पहने हो गया मीलॉड।

पीएम मोदी को हराना मेरे बाएं हाथ का खेल है : नितीश कुमार

यह जज्बा केवल राम जेठमलानी में ही है। राम जेठमलानी सबसे कम उम्र महज 18 साल में काला कोर्ट पहनने का रिकार्ड सातवें दशक में भी नहीं टूट पाया है। आज 92 साल के जेठमलानी के कानूनी दांव पेंच में कोई उनके आस-पास नहीं खड़ा है। आज भी वे कोई विवादित केस उठाने में पीछे नहीं हटते जिसके लिए वे जाने जाते हैं। ramjeth malani hits arun jetli