दाऊद इब्राहिम से मिलना कोई गुनाह नहीं है : ऋषि कपूर




80 के समय के बॉलीवुड चॉकलेटी बॉय ऋषि कपुर ने अपनी आत्मकथा ‘खुल्लम खुल्ला’ का विमोचन किया है जिसमें उन्होंने अपनी जिंदगी से जुड़े कई पहुलओं पर खुलकर बात की है। उन्होंने अपने किताब ‘खुल्लम खुल्ला’ में एक सनसनीखेज रहस्य को भी सार्वजानिक किया है कि उनकी एक बार डी वर्ल्ड के सरगना दाऊद इब्राहिम से मुलाक़ात हुई थी। rishi kapoor book khullam khulla 

इंडिया टुडे टीवी के साथ इंटरव्यू में ऋषि कपूर से जब दाऊद इब्राहिम से मुलाक़ात के बारे में पूछा गया। सवाल के जबाब पर ऋषि कपुर ने कहा कि दाऊद इब्राहिम से मिलने के लिए उन्हें कोई खेद नहीं है। उन्होंने बताया कि १९८८ में वो आर.डी. बर्मन, आशा भोसले और बिट्टू आनंद के साथ एक शो के लिए दुबई गए थे जंहा उनके पास एक व्यक्ति फोन लेकर आया और कहा कि भाई आपसे बात करेंगे। rishi kapoor book khullam khulla 

क्या अब भी दाऊद इब्राहिम के सम्पर्क में है ?

फिर उस व्यक्ति ने मुझे चाय पर बुलाया, मैं उसके घर पर गया। इस मुलाकात से मुझे कोई खेद नहीं है। हम कलाकार है हमारा काम मनोरंजन करना है। इस गतिविधि में हम किसी से भी मिल सकते है। हालांकि, एंकर ने टोकते हुए कहा कि लेकिन दाऊद इब्राहिम तब भी एक अपराधी था। एंकर के सवाल का जबाब देते हुए ऋषि कपूर ने कहा कि मैं भी एक अपराधी हो सकता है, कोई परफेक्ट नहीं है। एक अभिनेता होने के नाते मैंने सोचा कि दाऊद इब्राहिम की जीवनी जानने के बाद उनपर फिल्म बनाऊंगा। जिसमें खुद ही दाऊद इब्राहिम बनूँगा। rishi kapoor book khullam khulla 

दाऊद इब्राहिम से मिलना कोई गुनाह नहीं है : ऋषि कपूर

ऋषि के अनुसार दाऊद इब्राहिम के साथ वो चार घंटे की मुलाकात थी। जिस दौरान उन्होंने दो कप चाय पी थी। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि भारत में उसे न्याय मिलेगा। यह मुलाक़ात 1993 के मुम्बई विस्फोट से पूर्व हुई थी। rishi kapoor book khullam khulla 

जब एंकर ने ऋषि कपुर से पूछा, क्या अब भी दाऊद इब्राहिम के सम्पर्क में है ? ऋषि कपुर ने कहा कि दाऊद इब्राहिम से उनका कोई सम्पर्क नहीं है। दाऊद इब्राहिम तो क्या किसी अंडरवर्ल्ड से उनका कोई सम्बन्ध नहीं है। ऋषि कपूर से पूछा गया कि कभी उन्हें डी कम्पनी से कोई तोहफा मिला। इस पर ऋषि कपूर ने कहा कि एक बार पेशकश की गयी थी लेकिन मैंने ये कहते हुए मना कर दिया था कि जब जरुरत होगी खुद मांग लूंगा। rishi kapoor book khullam khulla