ममता द्वारा स्कूलों में हिन्दू आध्यात्मिक शिक्षा पर प्रतिबंध की शुरआत !




तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने धार्मिक असहिष्णुता को बढ़ावा देने और अनिवार्य विषय को विद्या भारती स्कूल में नहीं पढ़ाने के लिए आरएसएस द्वारा संचालित 125 स्कूल को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। बंगाल में सक्रीय इन स्कूलों को तीन प्राइवेट कंपनी द्वारा चलाया जा रहा है। जबकि यह स्कूल आरएसएस द्वारा संचालित है। rss school will ban 

बंगाल राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने एक सूची का हवाला देते हुए कहा कि राज्य में विद्या भारती के 350 स्कूल है। इस 350 स्कूलों में से 125 स्कूलों में शिक्षा को लेकर अनियमितता पाई गयी है। इसलिए इन स्कूलों को नोटिस भेजा गया है। उन्होंने कहा, हमने नोटिस के जरिये आरएसएस से जबाब माँगा है कि राज्य सरकार द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुसार इन स्कूलों में पढाई क्यों नहीं कराई जा रही है। जबाब में आरएसएस के तरफ से कोई संतोषजनक जबाब नहीं मिला। जिस कारण हमने अब कारण बताओ नोटिस जारी किया है। rss school will ban 

ममता का आरोप बेबुनियाद है

पार्थ चटर्जी ने कहा, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस मामले को लेकर आश्वस्त किया है। यदि जबाब संतोषजनक नहीं आता है तो आरएसएस द्वारा संचालित 125 स्कूलों को यथाशिघ्र बंद कर दिया जाए। और उनकी मान्यता को रदद् कर दिया जाए। rss school will ban 

वही राज्य के बीजेपी इकाई अध्यक्ष दिलीप घोष ने ममता के आरोपों का खंडन करते हुए कहा आरोप निराधार है। ममता का मुस्लिम प्रेम है जो वो आरएसएस पर दिखा रही है। राज्य में आरएसएस द्वारा जितने भी स्कूल है। वे राज्य सरकार द्वारा निर्धारित अनिवार्य पाठ्यक्रम का पालन करते है। इसके साथ में छात्र के नैतिक, मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक मूल्यों के विकास हेतु अतिरिक्त कार्यकलाप भी कराये जाते है, जो छात्र जीवन के लिए आवश्यक है। ऐसे में ममता का आरोप बेबुनियाद है। rss school will ban 

केजरीवाल गद्दार है, लोगों को भड़का रहे है : रॉबर्ट वाड्रा

राज्य बीजेपी अध्यक्ष दिलिप घोष ने कह कि ये 350 स्कूल विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम का पालन करते हैं। घोष ने कहा, ‘ये स्कूल राज्य द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम का पालन करते हैं साथ ही छात्र के शारीरिक, नौतिक और आध्यात्मिक मूल्यों के विकास के लिए अतिरिक्त क्रियाकलापों को इसमें शामिल किया गया है, जो स्वीकार्य है।

( प्रवीण कुमार )