सपा के दंगल से यूपी में बीजेपी का होगा मंगल




देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है।लेकिन प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी सपा में अपनों में ही खींचतान जारी है। पार्टी पर वर्चस्व स्थापित करने की इस जंग का नतीजा ये हुआ है कि पार्टी और पार्टी के चुनाव चिन्ह साइकिल पर दावे के लिए अखिलेश और मुलायम गुट दोनों चुनाव आयोग की शरण में जा पहुचे हैं। इन सबके बीच समाजवादी जंग से कांग्रेस की रणनीति पर असर देखने को मिल रहा है। जानकारों का मानना है कि कांग्रेस असमंजस में है कि क्या बिना साइकिल के साथ अखिलेश यादव के साथ जाना ठीक रहेगा। sapa ke dangal se bjp ka hoga mangal 

राजनीति पंडितो का कहना है कि कांग्रेस के रणनीतिकार चाहते हैं कि साइकिल अखिलेश गुट के पास ही रहे। ऐसा होने पर सपा से जुड़े समर्थकों को किसी तरह की परेशानी नहीं होगी। इसके अलावा अगर चुनाव आयोग पार्टी सिंबल को मुलायम गुट को देना चाहेगा तो उस परिस्तिथि में चुनाव चिन्ह साइकिल का जब्त होना ही ज्यादा बेहतर रहेगा। sapa ke dangal se bjp ka hoga mangal 

अमर सिंह राजनीति से संन्यास ले लेंगे sapa ke dangal se bjp ka hoga mangal 

सपा के चुनाव चिन्ह को लेकर मुलायम और अखिलेश दोनों गुट आमने-सामने हैं। अखिलेश गुट की तरफ से पहले ही डेढ़ लाख से ज्यादा दस्तावेज चुनाव आयोग को पेश किये जा चुके हैं। विधायकों, सांसदों और कार्यकर्ताओं ने हलफनामे पर हस्ताक्षर कर सीएम अखिलेश यादव के प्रति अपना विश्वास व्यक्त किया है। sapa ke dangal se bjp ka hoga mangal 

पीएम मोदी करेंगे दो दिवसीय गुजरात का दौरा

अखिलेश यादव के खांटी समर्थक बनकर उभरे रामगोपाल यादव ने अपने एक ब्यान में कहा हैं कि अब इसमें संदेह की गुंजाइश नहीं है कि असली समाजवादी पार्टी कौन है। लेकिन रामगोपाल के कट्टर विरोधी कहे जाने वाले अमर सिंह ने कहा कि अखिलेश की तरफ से पेश किए गए सभी हलफनामे फर्जी हैं। sapa ke dangal se bjp ka hoga mangal 

उन हलफनामों की सत्यता पर विशवास नहीं किया जा सकता है। अमर सिंह के इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए रामगोपाल यादव ने कहा कि जो व्यक्ति खुद ही फर्जी है तो उसे सबकुछ अपने जैसा ही दिखाई देता है। उन्होंने कहा कि अगर अमर सिंह के आरोप में जरा भी सच्चाई होगी तो वो राजनीति से संन्यास ले लेंगे। sapa ke dangal se bjp ka hoga mangal 
( सलोनी पांडेय )