सीएम योगी ने अफसरों को दिया फरमान ऐसा करो काम जिससे कोई न हो परेशान




सावन में कांवड़ यात्रा शुरू होने वाला है। उत्तर प्रदेश सरकार इसके लिए तैयारी कर रही है। सरकार ने खास निर्देश जारी किए हैं जिसके तहत प्रशासन के द्वारा ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सरकार ने ऐसे भी आदेश जारी किए हैं जिसे अंधविश्वास से जोड़ कर देखा जा रहा है। sawan kanwad yatra 2017

sawan kanwad yatra 2017 कांवड़िए यात्रा में काफी दुर्घटनाएं होती है

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने अफसरों को अजीब फरमान जारी किया। जिसके तहत उन्होंने प्रशासन की विशेष बैठक की। और कुछ ऐसे निर्देश जारी किए जिससे प्रशासन हैरान हो गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साफ तौर पर निर्देश दिया है कि कांवड़ यात्रा के दौरान बीच में आने वाले हजारों गूलर के पेड़ों को छंटवा दिया जाए। sawan kanwad yatra 2017

मुख्यमंत्री ने इसके पीछे तर्क भी दिए हैं। उनका तर्क है कि गूलर का पेड़ अशुभ होते हैं। इस आदेश के बाद यह कहा जा रहा है कि सरकार अंधविश्वास पर चल रही है। पुरानी मान्यता है कि गूलर के पेड़ पर अनिष्ट शक्तियां का वास होता है। जिसके कारण मुख्यमंत्री ने ऐसे निर्देश जारी कर दिए हैं। sawan kanwad yatra 2017




कांवड़िए को अच्छी तरह से नियम को समझा दें

गौरतलब है कि सावन महीने में 23 जुलाई से 22 अगस्त तक कावंड यात्रा चलेगी। योगी आदित्यनाथ ने कांवड यात्रा पर निर्देश जारी करते हे कहा कि सड़कों पर हुडदंग न करने की चेतावनी दी है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि कांवड़ यात्रा के दौरान डीजे पर प्रतिबंध नहीं है, लेकिन उस पर सिर्फ भजन ही बजने चाहिए। sawan kanwad yatra 2017

हमसफर एक्‍सप्रेस के अद्भुत कारनामा से यात्रियों का छूटा पसीना

योगी आदित्यनाथ ने साफ तौर पर कहा कि कांवड़ यात्रा को लेकर उच्चतम न्यायालय की ओर से दी गई गाइडलाइन को पूरी तरह से पालन करना चाहिए। उन्होंने यहां तक कहा कि कांवड़िए को अच्छी तरह से नियम को समझा दें। नंगे पांव चलने वाले कांवड़िए को भी खास ध्यान देने की जरूरत है। sawan kanwad yatra 2017

गौरतलब है कि सावन में कांवड़िए यात्रा में काफी दुर्घटनाएं होती है जिससे प्रशासन को भी काफी मशक्कत करने पड़ता है। ऐसे में सरकार ने पहले से खास निर्देश जारी कर दिए हैं ताकि सरकार की किरकीरी न हो पहले से ही सरकार कानून व्यवस्था को लेकर काफी आलोचना का शिकार हो रही है। sawan kanwad yatra 2017

loading…


यह दाल नहीं पथरी का काल है