कहां गया मोदी का 56 इंच का सीना, दस दिन भी नहीं लड़ सकता पाक या चीन से





भारत की अभी चीन से तनातनी चल रही है। वहीं पाकिस्तान लगातार बोर्डर पर सीज फायर का उल्लंघन कर रहा है। ऐसे में नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने जो रिपोर्ट पेश की है जिससे हर देशवासी सकते में है। कैग यानी सीएजी की रिपोर्ट के अनुसार युद्ध छिड़ने की स्थिति में सेना के पास महज दस दिन के लिए ही गोला बारूद है। sena ke pas 10 din ladne ka saman nahi 

हिंदी के अखबार के मुताबिक संसद में पेश हुए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि युद्ध होने पर भारतीय सेना द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले गोला बारूद में से 40 फीसदी तो 10 दिन में ही खत्म हो जाएगा। रिपोर्ट काफी चिंताजनक है जिसमें ऐसा कहा गया है कि जंग छिड़ने पर सत्तर फीसदी टैंक और तोपों के 44 फीसदी गोले दस दिन में ही समाप्त हो जाएंगें। sena ke pas 10 din ladne ka saman nahi 

गौरतलब है कि कैग ने करीब दो साल पहले मई 2015 में भी सेना के कम होते गोला बारूद के भंडार पर विस्तृत रिपोर्ट संसद के पटल पर रखी थी। यह रिपोर्ट अखबार ऐसे समय में प्रसारित कर रहा है जब पाकिस्तान से लगी सीमा पर तनाव बना हुआ है। निश्चिततौर पर यह एक खतरे की घंटी है। sena ke pas 10 din ladne ka saman nahi 

कश्मीर से आतंकियों का सफाया करके छोड़ेगी बीजेपी

गौर करने वाली बात यह है कि सेना के पास कम से कम इतने गोला बारूद होने चाहिए जिससे वह लगातार 20 दिनों तक युद्ध से निपट सके। सेना को चालीस दिनों का सघन युद्ध लड़ने लायक गोलाबारूद अपने वॉर वेस्टेज रिजर्व में रखने की जरूरत होती थी। जिसे घटाकर बीस दिनों तक कर दिया गया। sena ke pas 10 din ladne ka saman nahi 

sena ke pas 10 din ladne ka saman nahi गोलाबारूद की भारी किल्लत

लेकिन जिस प्रकार से कैग की रिपोर्ट आई है उससे गोलाबारूद की भारी किल्लत को उजागर करती है। ऐसे समय में जब संसद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन को करारा जवाब दिया है जिसमें उन्होंने कहा कि डोकलाम से चीन पहले अपनी सेना हटाए उसके बाद ही भारत अपने सेना हटाने पर विचार करेगा। sena ke pas 10 din ladne ka saman nahi 

loading…



गैस्ट्रिक-stomach ulcer का इलाज है इतना आसान, नहीं जानते होंगे आप