मोदी की मेहरबानी है जो नवाज़ शरीफ अब तक ज़िंदा है।




पाकिस्तान में कभी भी तख्ता पलट हो सकता है। जिस प्रकार से अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का आदेश आया हैं। उससे ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार पर दवाब है। वही सेना सरकार की बात मानाने से इनकार करता रही है। ऐसे में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की कुर्सी कभी भी जा सकती है। sharif par modi ki meharbani hai 

परवेज मुशर्रफ तख्ता पलट

अभी ताजा मामला कुलभूषण जाधव का है जिसे लेकर भारत और पाक की बीच तनाव फिर से बढ़ गया है। भारत इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ले गया था जंहा उसे कूटनीति रूप से सफलता हासिल हुई है और अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने जाधव की फांसी पर रोक लगाने को कहा है। sharif par modi ki meharbani hai 

गौरलतब है कि मिलिट्री कोर्ट ने कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाई है। इसके पहले जब सजा सुनाई गई थी तो पाकिस्तान सरकार और सेना में एक राय नहीं थी। जाधव की गिरफ्तारी के समय से ही पाक सरकार के विरोधाभाषी बयान आ रहे थे। sharif par modi ki meharbani hai 

पहले विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज का बयान आया कि कुलभूषण जाधव को फांसी दिए जाने के लिए उनके पास कोई तथ्य नहीं है। हालांकि बाद में यही बयान बदला गया और विदेश मंत्रालय ने कहा कि जाधव के खिलाफ पुख्ता सबूत है। यह साफ हो गया कि सेना का दवाब सरकार पर पड़ा है। sharif par modi ki meharbani hai 

पाकिस्तान में तख्ता पलट आम बात है

बता दें कि पाकिस्तान की सत्ता की असल कमान सेना के हाथ में ही रहती है। वर्तमान परिवेश में सरकार और सेना के बीच दूरी इतनी बढ़ गई है कि सरकार अपने फैसले बदलने को मजबूर हो रही है। इसी का नतीजा है कि एलओसी पर तनाव बढ़ा है । पाकिस्तान लगातार बेवजह बोर्डर पर फायरिंग और सेना पर हमले कर रहा है। sharif par modi ki meharbani hai 

दरअसल भारत और पाक के बीच कोई बातचीत न हो इसलिए ऐसा किया जा रहा है। ऐसे कई मामले हैं जिसमें प्रधानमंत्री शरीफ पर दवाब दिखता है। जैसे पनामा गेट मामला, डॉन लिक्स मामला या सेना और कश्मीर मुद्दे को लेकर सेना और सरकार के बीच मतभेद का मामला हो। इससे साफ जाहिर होता है कि नवाज शरीफ की गद्दी कभी भी जा सकती है। sharif par modi ki meharbani hai 

हमें गर्व है कि गाय की पूजा करने वाला ढोंगी हिन्दू हमारा दुश्मन है – पाकिस्तानी मीडिया

जनरल कमर जावेद बाजवा और नवाज शरीफ तालिबान मुद्दे पर कई बार भिड़ चुके हैं। खासकर हाफिज सईद पर की जा रही कार्रवाई पर सेना खुश नहीं है। इससे प्रतीत होता है कि कभी भी यहां कुछ भी हो सकता है। वैसे भी पाकिस्तान में तख्ता पलट आम बात है जिसके लिए जनता पहले से तैयार रहती है। जियाउल्लहक और परवेज मुशर्रफ तख्ता पलट कर ही पाकिस्तान में सत्ता हासिल की थी। sharif par modi ki meharbani hai