गूगल ने डूडल के जरिए ‘नृत्य साम्राज्ञी’ सितारा देवी को किया सम्मानित




‘नृत्य साम्राज्ञी’ सितारा देवी की 97वीं जयंती के अवसर पर गूगल ने उनके सम्मान में डूडल बनाया है। इस डूडल में कथक नृत्यांगना सितारा देवी गुलाबी रंग की भारतीय परिधान में नृत्य करती नजर आ रही है। जबकि उनके आस पास घुंघरू, तबला और सितार आदि है जो गूगल शब्द को पूर्ण कर रहे है। sitara devi doodle

काला धन विरोधी जागृति मार्च में मनोज तिवारी सांसद एवं वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित

बता दें ‘नृत्य साम्राज्ञी’ सितारा देवी का जन्म 1920 में कोलकाता में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम सुखदेव महराज और माता का मत्स्य देवी है। इनके बारे में कहा जाता है कि इनका जन्म दीपावली के एक दिन पहले यानि की धनतेरस हुआ को हुआ। इसके लिए इनके माता-पिता का इनका नाम धनलक्ष्मी रखा था। sitara devi doodle

25 नवंबर 2014 को नृत्य सामाग्री सितारा देवी ने दुनिया को अलविदा कह दिया।

सितारा देवी के पिता स्कूल शिक्षक के साथ कत्थक भी किया करते थे। प्रतिभा की धनी धनलक्ष्मी सितारा देवी ने महज 10 वर्ष से अकेले मंच पर कत्थक प्रस्तुति देना शुरू कर दिया था। जब सुखदेव महराज मुंबई में रहने के लिए शिफ्ट हुए तो सितारा देवी आतिया बेगम पैलेस में कथक की प्रस्तुति दी। sitara devi doodle

क्रिएटनिन लेवल कम करने के उपाय | Solved creatinine label problem,

ऐसा बताया जाता है कि इस कार्यकर्म में नोबेल पुरस्कार विजेता टैगोर जी, सरोजनी नायडू और सर कोवासजी जहांगीर उपस्थित थे। सितारा देवी की नृत्य से प्रभावित होकर टैगोर जी ने सितारा देवी को ‘नृत्य साम्राज्ञी’ की उपाधि दी। देश सहित विश्व मंच लंदन के रॉयल अल्बर्ट हॉल और न्यूयॉर्क के कार्नेगी हॉल पर सितारा देवी ने अपनी प्रस्तुति दी थी। 25 नवंबर 2014 को नृत्य सामाग्री सितारा देवी ने दुनिया को अलविदा कह दिया। sitara devi doodle




Leave a Reply