मैं इस देश की बहू हूँ और ये देश मेरा है : सोनिया गाँधी





सोनिया गांधी के विदेशी होने पर सवाल उठते रहे हैं। एक बार फिर सीआईसी ने पूरी रिपोर्ट मांगी है जिसमें यह स्पष्ट करना है कि वे कहां की नागरिक हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की एक बार फिर मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही है जिसमें उनकी नागरिकता पर सवाल उठाए गए हैं। केंद्रीय सूचना आयोग ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से सोनिया गांधी की नागरिकता पर विस्तृत रिपोर्ट मांगा है। sonia gandhi citizenship case

sonia gandhi citizenship case नागरिकता पर सवाल उठ रहे हैं

दरअसल उज्जैन में एक आरटीआई लगाया है जिसमें सोनिया गांधी समेत विदेशी नागरिकों के भारतीय नागरिकता हासिल करने का ब्यौरा मांगा गया था। जिसमें विदेश मंत्रालय ने यह बताया कि उनके पास इसकी विस्तृत जानकारी नहीं है। आरटीआई में जो दस्तावेज मांगा गया है इसमें सत्यापित प्रति, अधिसूचना आदेश, नियम, सोनिया की भारतीय नागरिकता से संबंधित पत्राचार और जांच प्रक्रिया की नोटशीट शामिल हैं। sonia gandhi citizenship case

यह को पहली बार नहीं है कि उनके विदेशी नागरिका पर सवाल उठाए गए हैं इसके पहले खासकर 2004 के चुनाव के पहले यही मुख्य मुद्दा होता था जिसको उन्होंने परास्त कर दो टर्म में कांग्रेस को सत्ता में लाई। अब जबकि कांग्रेस सत्ता से बाहर है ऐसे समय में एक बार फिर से यह मुद्दा उछला है। sonia gandhi citizenship case





जानकी जयंती की कथा एवं इतिहास
सोनिया गांधी के नागरिकता के सवाल पर विदेश मंत्रालय में कोई सूचना नहीं होने पर उसे गृह मंत्रालय को स्थानांतरित कर दिया गया है। लेकिन अभी तक गृह मंत्रालय ने भी कोई जवाब नहीं दिया। उनके पास भी कोई जवाब उपलब्ध नहीं है। गौरतलब है कि आरटीआई में अपीलकर्ता के आदेश की प्राप्ति की तारीख पंद्रह दिन के भीतर जवाब दिया जाता है। sonia gandhi citizenship case
पीएम मोदी आधुनिक विश्व के आयरन मैन है : नेतन्याहू

गृह मंत्रालय के केंद्रीय सार्वजनिक सूचना अधिकार को भी निर्देश दिया है कि वह सुनवाई की अगली तारीख पर उनके समक्ष उपस्थित हों। सोनिया गांधी इसके पहले एक बार लाभ के पद को लेकर भी अपने सांसदी से इस्तीफा दे चुकी हैं। अब जबकि नागरिकता पर सवाल उठ रहे हैं इसपर अगर वे जवाब नहीं देती हैं तो इस मुद्दे पर भी राजनीति होगी और उनके सांसद निर्वाचित होने पर फिर से सवाल उठेंगे।

loading…