जैसे 2004 में अटल-अडवाणी को हराया उसी तरह 2019 में मोदी को हराऊंगी : सोनिया गाँधी




राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर विपक्षी दल अपनी उपस्थित दर्ज कराने के लिए लगातार कोशिश में लगी हैं। विपक्षी एकता का प्रयास इसी के तहत हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष को एकजुट करने में लगी हैं। इसी के मद्देनजर ममता बनर्जी और बसपा सुप्रीमो मायावती की सोनिया गांधी से जल्द ही मुलाकात होने वाली है। sonia gandhi open mouth 

2019 आमचुनाव

सोनिया गांधी ने सपा नेता मुलायम सिंह यादव और लालू यादव से भी बातचीत की है। विपक्ष एकजुट होकर अपना उम्मीवार तय करने की जुगाड़ में है। कांग्रेस का कहना है कि राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति का पद राजनैतिक वाद विवाद से हटकर है जिसपर कोई एक विचारधारा देश पर थोपी नहीं जा सकती। sonia gandhi open mouth 

साफ है जिस तरह से भाजपा में मोहन भागवत का नाम सबसे तेजी से ऊपर आया। उससे विपक्षी खेमे में हलचल पैदा हो गई है। हालांकि मोहन भागवत ने इस तरह की अटकलों से इंकार किया है। गौरतलब है कि विपक्ष में आम राय बनाने की शुरुआत बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की। उन्होंने इस मद्देनजर सोनिया गांधी से मुलाकात भी की थी। sonia gandhi open mouth 

विपक्ष एकजुट हो जाए

उसके बाद लगातार विपक्ष एकजुट होने के प्रयासरत में है। जिसके तहत ही केरल के मुख्यमंत्री विजयन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की थी। वहीं शरद यादव पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिल चुके हैं और लगातार अन्य प्रदेशों के दौरे पर हैं। ऐसा माना जा रहा है कि विपक्ष शरद यादव को ही अपना उम्मीदवार तय करेगा। हालांकि अभी नाम का खुलासा नहीं किया गया है। sonia gandhi open mouth 

कांग्रेस का इस बारे में कहना है कि विपक्ष में एक आम राय और आम सहमति बनाने की कोशिश जारी है। राष्ट्रहित सर्वोपरि है और इसी मद्देनजर ही उम्मीदवार तय किए जाएंगें। वहां भाजपा में राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के लिए अभी कोई हलचल नहीं है लेकिन समय समय पर कई नाम चर्चित हो रहे हैं। जिसमें मोहन भागवत, लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी जैसे बड़े नेताओं के नाम की चर्चा है। sonia gandhi open mouth 

सिद्धू मेरे गुरु जी है उनके लिए केजरीवाल को भी छोड़ सकता हूँ : भगवंत मान

खैर, विपक्ष के पास राष्ट्रपति चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के लिए जरूरत वोट शायद ही हासिल हो लेकिन विपक्ष इस बहाने सक्रिय है कि शायद 2019 के आमचुनाव के लिए विपक्ष एकजुट हो जाए। नहीं तो जिस प्रकार से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता हासिल हुई जिसको टक्कर देना विपक्ष के लिए आसान नहीं है। sonia gandhi open mouth