मैं राष्ट्रपति पद के लिए काबिल नहीं हूँ, शरद यादव परफेक्ट कैंडिडेट है : सोनिया गाँधी




भाजपा की बढ़ती ताकत को रोकने के लिए विपक्ष एकजुट होने का प्रयास कर रहा है जिसकी अगली कड़ी में जदयू और कांग्रेस के नेता मिलकर एकजुटता प्रदर्शित की है। बिहार के मुख्यमंत्री व जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। sonia nitish kumar meeting 

विपक्ष में चिंता की लकीर खिंच गई हैं

इस मुलाकात के कई राजनीति मतलब है। नीतीश कुमार बिहार के तर्ज पर अब राष्ट्रीय स्तर पर महागठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं। सोनिया गांधी ने इस महागठबंधन पर हामी भर दी है। बिहार में महागठबंधन को काफी सफलता हासिल हुई तो इसी तर्ज पर उत्तर प्रदेश में किए गए प्रयास सपा-कांग्रेस का विफल रहा। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने चार राज्यों में सरकार बना ली जिसमें यह कहा गया कि भाजपा ने अपने बुते सरकार बनाई है। sonia nitish kumar meeting 

लेकिन नीतीश कुमार ने याद दिया दिलाया की तीन राज्यों में भाजपा को बहुमत हासिल नहीं हुई है। यहां केवल ठोल पिटा जा रहा है। अब जबकि राष्ट्रपति चुनाव होने वाले हैं जिसकी प्रक्रिया जून में शुरू हो जाएगी ऐसे में विपक्ष एकजुट होना चाह रहा है जिससे की भाजपा को मात दी जा सके। हालांकि अभी तक के समीकरण में भाजपा को रोकना आसान नहीं है। लेकिन जिस तरह से एक के एक विपक्ष के नेता एकजुट हो रहे हैं इससे लग रहा है कि भाजपा के खिलाफ एकजुटता विपक्ष प्रदर्शित करेगा। sonia nitish kumar meeting 

एक सच्चा मुस्लमान कभी जय श्री राम नहीं बोलेगा : आज़म खान

पहले सपा नेता व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तृणमूल कांग्रेस नेता ममता बनर्जी से मुलाकात की तो केरल के मुख्यमंत्री विजयन के दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की। जिससे यह पता चलता है कि अब विपक्ष किसी भी कीमत पर एकजुटता रखना चाहते हैं ताकि अपने राष्ट्रपति उम्मीदवार दे सके। और राष्ट्रीय स्तर पर बिहार जैसा महागठबंधन बन सके। जिससे की भाजपा की बढ़ती ताकत को रोका जा सके। जिस तरह से भाजपा पूरे देश में अपने पांव फैला दिए हैं इससे विपक्ष में चिंता की लकीर खिंच गई हैं। sonia nitish kumar meeting