रोहंगिया शरणार्थियों भारत में ही रहेंगे अभी : सुप्रीम कोर्ट




सुप्रीम कोर्ट ने रोहिंग्या शरणार्थियों को देश में शरण देने या फिर वापस भेजने के मसले की सुनवाई 21 नवंबर तक के लिए टाल दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस संबंध में दोनों पक्षों को दलील पेश करने की इजाजत दी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा मानवीय मूल्यों के आधार दुखी और पीड़ित महिलाओं और बच्चों को दरकिनार नहीं कर सकते है। हालांकि, देश की रक्षा और आर्थिक हितों की रक्षा भी जरुरी है। कोर्ट ने आदेश देते हुए कहा कि जब तक अगली सुनवाई तक इन्हे वापस न भेजा जाए। supreme court denied rohngiya deport 

फटाखा बैन को सांप्रदायिक रंग देने से सुप्रीम कोर्ट दुखी

गौरतलब है म्यांमार में चरमपंथी विद्रोह के बाद रोहंगियां मुसलमानों शरणार्थी संकट गहरा गयी। बड़ी तादात में शरणार्थी बंगलादेश के रास्ते सीमा पार कर भारत आ चुके है। जिससे देश की सुरक्षा को खतरा है। इस बाबत मोदी सरकार अवैध शरणार्थियों को वापस भेजने की हिमाकत कर रही है। वही रोहंगियां शरणार्थियों ने मोदी सरकार के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चौंती दी है। जिसकी सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा सहित तीन जजों की बेंच कर रही है। supreme court denied rohngiya deport