गौ हत्या कर इसे अनजाने का अपराध बता दो, बरी हो जाओगे : सुप्रीम कोर्ट




उच्चतम न्यायालय ने समय समय पर सोशल मीडिया से लेकर कई ऐसे निर्णय दिए हैं जिसकी खूब चर्चा हुई है। और समाज को सही दिशा भी मिली है। अभी एक ताजा अहम फैसले लेते हुए उच्चतम न्यायालय ने ऐसे ही निर्णय सुनाए हैं। जिससे अब कानून की धारा के धारा का गलत इस्तेमाल पर रोक लगेगी। supreme court new law order 

राजनीतिक कार्यकर्ता अदालत में घसीटते हैं।

उच्चतम न्यायालय ने साफ कहा कि अनजाने में धर्म पर अगर कोई अपमान वाली बात कही जाती है उसपर मामला नहीं बनता है। इस तरह के मामले पर केस नहीं चलाया जाएगा। ऐसे में न्यायालय का वेबजह समय खराब होता है। न्यायालय ने साफ कहा कि अनचाहे या लापरवाही में बिना किसी खराब मंशा के अगर धार्मिक भावना को आहत पहुंचता है तो इसपर कानून की धारा नहीं बनता है।कानून की धारा का गलत इस्तेमाल ठीक नहीं है। supreme court new law order 

दरअसल न्यायालय ने 295 ए के गलत इस्तेमाल पर चिंता व्यक्त की। इस धारा में तीन साल की सजा भी हो सकती है। गौरतलब है कि मशहूर क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने एक मामले में चुनौती दी थी जिसमें वे खुद पर लगे धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप के मामले में केस चलाए जाने की चुनौती दी थी। यह मामला 2013 का है जिसमें बिजनेस मैगजीन के आवरण पर भगवान विष्णु की तरह दिखाया गया है जिसको लेकर अदालत में केस दर्ज किया गया था। supreme court new law order 

मैं राष्ट्रभक्त हूँ पर कट्टर हिन्दू नहीं हूँ : सोनम कपूर

जिस तरह से न्यायालय ने यह निर्णय दिया है इससे काफी राहत महसूस कर रही होंगी सेलिब्रिटी। जिन्हें बार बार ऐसे मामले में राजनीतिक कार्यकर्ता अदालत में घसीटते हैं। न्यायालय ने इसके पहले भी सोशल मीडिया यूजर्स पर भी ऐसे ही निर्णय देकर राहत दी थी। जिसको लेकर खूब चर्चा हुई। जिसमें इन्फर्मेशन टेक्नॉलाजी एक्ट 200 के धारा 66 ए को खत्म करके भी उच्चतम न्यायालय ने अहम निर्णय दिए। जिसकी खूब चर्चा हुई। supreme court new law order