अथश्री मोदी का राम राज अध्याय प्रारंभ




पीएम मोदी नाम ही काफी है क्योंकि अच्छे के अच्छा और बुरे के लिए बुरा छवि रखने वाले शख्स है। पीएम मोदी ने जो शब्द शपथ ग्रहण समारोह में लिए थे उस पर वो आज भी काबिज है। देश में कुछ लोग कहते है कि कहां है अच्छे दिन तो उनके लिए ये खबर है कि पीएम मोदी के कार्यकाल में अच्छे दिन ही नहीं बल्कि राम राज का अध्याय प्रारंभ हो चूका है। supreme court reject shahbuddin bail plea
जैसा कि ज्ञात हो आज से पहले देश के किसी पीएम ने दुनिया में भारत का लोहा इस तरह नहीं मनवाया है जैसा पीएम मोदी ने वर्तमान में किया है। पीएम मोदी के बदले तेवर को सिर्फ दो उधारण से ही समझा सकता है।

पहला कि देश के बाहर से यदि कोई भारत पर बुरी नजर डालता है तो पीएम मोदी सर्जिकल ऑपरेशन मिशन करके दुश्मनों को मुहतोड़ जबाब दिया जाता है। वही यदि कोई सहायता की याचिका किसी देश से की जाती है तो पीएम मोदी हरसंभव सहायता की जाती है। supreme court reject shahbuddin bail plea

फिर चाहे एशिया की त्रासदी हो, या फिर विश्व की हो। पीएम मोदी सभी मौकों पर उपस्थित पाए गए। वही यदि बात की जाए देश की तो देश में भी आतंक के पर्याय को जल्द जेल में भेजने में मोदी सरकार अव्वल है। supreme court reject shahbuddin bail plea

बिहार में आतंक के पर्याय बन चुके बाहुबली नेता शहबद्दीन को जेल से रिहा होने के बाद महज २५ दिन में फिर से जेल में डाल दिया, इसे मोदी का राम राज कहते है। जिसका अध्याय प्रारंभ हो चूका है।

मोदी आधुनिक विश्व के शांतिदूत है : चीनी राष्ट्रपति

बिहार के बाहुबली और राजद के दाहिना हाथ सिवान के बाहुबली को फिर से जेल जाना होगा। आज सुप्रीम कोर्ट ने राजदेव रंजन केस की पुनः सुनवाई करते हुए शहाबुद्दीन की जमानत ख़ारिज कर दी है। जिसका मतलब है कि बिहार के बाहुबली को फिर से जेल जाना होगा। supreme court reject shahbuddin bail plea

हालांकि, आरोपी शाहबुद्दीन के वकील शेखर नाफड़े ने अपनी दलील कोर्ट में पेश की किन्तु कोर्ट ने सभी दलीलों को ख़ारिज करते हुए, ये फैसला सुनाया है। कोर्ट ने नितीश सरकार को फिर से फटकार लगाई है। supreme court reject shahbuddin bail plea

आपको बता दें कि इससे पूर्व भी सुप्रीम कोर्ट ने नितीश सरकार को फटकार लगाई थी कोर्ट ने नितीश सरकार द्वारा दायर याचिका जिसमें शहाबुद्दीन की रिहाई पर रोक लगाने की मांग की थी। कोर्ट ने कहा था कि जब शाहबुद्दीन को कोर्ट से बेल मिली तो उस समय नितीश सरकार कहाँ सो रही थी। supreme court reject shahbuddin bail plea

शहाबुद्दीन को बिहार से बाहर किसी जेल में रखा जाए

ज्ञात हो कि इसी महीने की 7 तारीख को शहाबुद्दीन को पटना हाई कोर्ट जमानत दे दी थी। जिसके बाद वो जेल से रिहा हुए थे। जेल से रिहा होने के बाद बाहुबली शाहबुद्दीन ने नितीश सरकार पर जमकर निशाना बनाते हुए कहा था की उनके नेता लालू है, नितीश तो परिस्थिति बस बिहार के मुख्यमंत्री बन गए है। शहाबुद्दीन की रिहाई के बाद देश भर में नितीश सरकार की कड़ी आलोचना की गई थी। जिसके बाद नितीश सरकार बाहुबली को लेकर एक्टिव हुई थी। supreme court reject shahbuddin bail plea

सरकारी वकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संतुष्टि प्रकट करते हुए कहा कि वो अब कोर्ट में एक और याचिका दायर करेंगे ताकि शहाबुद्दीन को बिहार से बाहर किसी जेल में रखा जाए। supreme court reject shahbuddin bail plea
( प्रवीण कुमार )