नितीश कुमार से “दिल का रिश्ता है” : मोदी




देश की राजनीति चाय पर चर्चा के बाद अब चूरा-दही के भोज तक का सफर तय कर लिया है। जेडीयू की तरफ से आयोजित मकर संक्रांति पर भोज को देखकर कुछ ऐसा ही लगता है। इस भोज के लिए जेडीयू ने बीजेपी को भी आमंत्रित किया है। जेडीयू के इस फैसले से महागठबंधन में खलबली मची हुई है। एक ओर जंहा राजद मूक दर्शक बन बैठी है वही कांग्रेस जेडीयू के इस कार्य से खफा है। sushil modi praises nitish kumar

जेडीयू ने मकर संक्रांति के अवसर पर रविवार को चूरा-दही का भोज दिया है। जिसमें बीजेपी के सभी नेताओं को बुलाया गया है। एक टीवी न्यूज़ चैनल से बात करते हुए बीजेपी नेता सुशील मोदी ने कहा कि नितीश कुमार से न केवल बीजेपी का बल्कि उनका भी व्यक्तिगत दिल का रिश्ता है। sushil modi praises nitish kumar 

वैसे चुरा-दही के भोज पर राजनीति नहीं करना चाहिए

वही नितीश कुमार द्वारा बीजेपी को बुलाये जाने से कांग्रेस नाराज है। बिहार कांग्रेस प्रदेश अध्य्क्ष अशोक चौधरी ने कहा कि दो सालों से बीजेपी को बुलाया नहीं भेजा जा रहा है लेकिन इस साल ऐसी क्या बात हो गयी जो नितीश कुमार द्वारा बीजेपी को न्योता भेजा गया है। sushil modi praises nitish kumar 

वही बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार ने कहा कि दो साल से बुलावा नहीं आया था लेकिन इस बार आया है। बीजेपी इसे स्वीकार करती है। बीजेपी का नितीश कुमार से दिल का रिश्ता है। हालांकि, मोदी ने इसी बहाने राजद पर निशाना साधने से नहीं चुके। sushil modi praises nitish kumar 

स्मृति ईरानी बनेंगी उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री !

उन्होंने कहा कि महागठबंधन में नितीश-मोदी की नजदीकी से खलबली मची है। उनको समझ नहीं आ रहा है। नितीश कुमार ऐसा क्यों कर रहे है ? उनलोगों को समझना चाहिए कि नितीश कुमार को गलती का अहसास हो गया है। वैसे चुरा-दही के भोज पर राजनीति नहीं करना चाहिए। sushil modi praises nitish kumar 

आपको बता दें कि पीएम मोदी के नोटबंदी के बाद से नितीश के द्वारा पीएम मोदी की तारीफ करने के कारण दोनों नेताओं के बीच नजदीकी बढ़ गयी है। जिसकी चर्चा पुरे देश में है। इसकी पुष्टि नितीश कुमार-पीएम मोदी ने प्रकाश पर्व पर एक मंच साझा करके दी। वही महागठबंधन की माने तो नितीश कुमार के साथ कोई मतभेद नहीं है। sushil modi praises nitish kumar