डर के मारे मुंह छुपा रही है मायावती, चुनाव क्या लड़ेगी





बसपा सुप्रीमो मायावती आजकल डर के मारे मुंह छिपा रही है। ये डर किसी वरिष्ठ नेता का नहीं है बल्कि एक भारतीय नारी की है जो नारी शक्ति को लेकर आगामी उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में मायावती के खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा की है। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

आपको बता दें कि मायावती इसी डर से इधर-उधर छुप रही है, इस सम्बन्ध में मायावती न ही मीडिया के सामने कोई बयान देती है और न ही कोई सार्वजानिक घोषणा कर रही है। शायद, मायावती को नारी शक्ति का वास्तविक ज्ञान का अभ्यास अब हुआ होगा। बसपा सुप्रीमो खुद एक नारी है किन्तु वो छल और कपट की दुनिया की नारी है। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

आज तक मायावती ने जो भी एम्पायर खड़ा किया है वो गैर क़ानूनी ढंग से किया है। इसका उधारण नोएडा में स्थित आंबेडकर पार्क है। अपने कार्यकाल में मायावती ने सरकारी खजाना को जमकर लुटा है और लुटे हुए पैसे को काला धन में तब्दील कर दी है। इसके आलावा सरकारी राजस्व से अपने पार्टी प्रचार प्रसार किया है। आज ये पार्क वीरान बनी हुई है। इसका प्रमुख वजह है यूपी में अखिलेश सरकार है। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

सपा और बसपा दोनों ही एक सिक्के के दो पहलू है, पांच साल सपा खाती है तो पांच साल बसपा खाती है। यूपी का बेड़ा गर्क इस दोनों पार्टियों ने मिलकर कर दिया है। बसपा सुप्रीमो की हरकत तो पहले से जगजाहिर था लेकिन इस तथ्य को उजागर होने में कुछ समय लग गया है लेकिन देर आये दुरुरस्त आये वाला जुमला स्वामी मौर्या पर लागु होता है।

देश भर में स्वाति के समर्थन के लिए लोग सड़क पर आ गये

जिन्होंने पहली बार मायावती के राजनितिक वेश्यावृति व्यवहार को सार्वजानिक किया था। बसपा छोड़ने के बाद मौर्या ने मीडिया से मुखातिब होकर कहा था कि मायावती अब पैसे के दम पर सीट बेचती है जो ज्यादा बोली लगाता है। उसे ही पार्टी का टिकट दिया जाता है। उन्होंने कहा की जिस तरह अकाल में वस्तुओं का भाव एक ग्राहक जाने के बाद दुगुना हो जाता है। ठीक उसी प्रकार मायावती पार्टी से चुनाव लड़ने के लिए टिकट का दाम बढाती है। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

हालांकि, मौर्या के बयान का खंडन करते हुए मायावती ने कहा था कि मौर्या के बेटे को टिकेट न दिए जाने के कारण मौर्या ने पार्टी से इस्तीफा दिया है। मायावती ने मौर्या के उस आरोप का विरोध नहीं किया था जिसमें मौर्या ने टिकट को लेकर कहा था । किन्तु इसी बात को जब निष्काषित बीजेपी विधायक दयाशंकर ने अपने शब्दों में कहा तो बीजेपी पार्टी होने के एवज में मायावती ने खूब हंगामा की । swati challenged mayawati uttar pradesh  election

जबकि इस बयान के लिए बीजेपी ने तत्काल दयाशंकर सिंह को पार्टी से निष्काषित कर दिया, पार्टी से निष्कासन के पश्चात दयाशंकर सिंह ने मायावती से इस बाबत माफ़ी भी मांगी, लेकिन मायावती ने अपने पार्टी समर्थको को और उकसाया। जिससे पुरे यूपी में तनाव जैसी स्थिति पैदा हो गया। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

मायावती का दलित वोट भी छीन गया है

इसी क्रम में बसपा के नेता नईमुद्दीन सिद्दकी ने अभद्र शब्दो का इस्तेमाल दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति और उनकी 11 वर्ष की बेटी के लिए किया, जो अति निंदनीय था। नईमुद्दीन सिद्दकी के बयान के बाद देश भर में सिद्दकी के बयान की आलोचना की गई। कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन किया गया। स्वंय दयाशंकर की पत्नी सड़क पर आ गई और सिद्दकी को मुहतोड़ जबाब दिया। स्वाति देवी ने जिस तरह से नईमुद्दीन सिद्दकी और मायावती का मुह तोड़ जबाब दिए है वो काबिलेतारीफ है। देश भर से स्वाति के समर्थन के लिए लोग सड़क पर आ गये। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

क्या यूपी में शीला को मिलेगा ब्राह्मणों का साथ या राजपूतों से होगा बीजेपी का बेड़ा पार

इतना कुछ होने के बाबजूद मायावती ने नईमुद्दीन सिद्दकी के खिलाफ कोई करवाई नहीं की, न ही पार्टी से निकाला और न ही दिए गए बयान के लिए माफ़ी मांगने को कहा। जिससे लोगों म आक्रोश और बढ़ गया। अब लोगों के स्नेह से दयाशंकर सिंह की पत्नी का मनोबल ऊँचा हुआ है जिससे स्वाति ने मायावती को चुनौती दी है की वो मायावती के खिलाफ यूपी चुनाव लड़ेगी। अब जब लोगों का स्नेह स्वाति को मिलने लगा है तो मायावती मुंह छिपा रही है। swati challenged mayawati uttar pradesh  election  

जल्द ही नईमुद्दीन सिद्दकी पर क़ानूनी करवाई की जाएगी। swati challenged mayawati uttar pradesh election

मायावती जानती है की दयाशंकर सिंह ने जो कहा उसके लिए वो माफ़ी मांग चूका है और फ़िलहाल हिरासत में है। यदि बात को उसी समय दबा दिया जाता तो आज दांव उल्टा नहीं पड़ता। आज स्थिति ये है की मायावती का दलित वोट भी ( स्वाति पर नईमुद्दीन सिद्दकी के बयान के कारण ) छीन गया है। ऐसे में अब मायावती चुनाव क्या लड़ेगी, ये बड़ा प्रश्न है ? गद्दी पाना तो दूर जीतना भी मुश्किल है। swati challenged mayawati uttar pradesh  election

जंहा तक बात नाइउद्दीन सिद्दकी की है तो उस पर पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज है और जल्द ही नईमुद्दीन सिद्दकी पर क़ानूनी करवाई की जाएगी। फ़िलहाल यूपी पुलिस नईमुद्दीन सिद्दकी के उस भाषण की जाँच में जुटी है जिसमें उसने दयाशंकर सिंह के पत्नी और बेटी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी।  swati challenged mayawati uttar pradesh  election  
( प्रवीण कुमार )