तेजस्वी ने नीतीश कुमार को दिखाया ठेंगा





बिहार में राजनीति सरगर्मी बनी हुई है। जहां नीतीश कुमार संशय में हैं कि वे राजद के साथ रहे या नहीं। सरकारी कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के बीच तो दूरी बनने लगी है।बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में होने वाले सरकारी कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव नहीं पहुंचे। इसके बाद यह कयास लगाया जाने लगा कि जिस प्रकार से तेजस्वी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं उसके बाद से वे खुद मुख्यमंत्री पर दवाब बनाने के लिए साथ में कार्यक्रम में नहीं जा रहे हैं। गौरतलब है कि वर्ल्ड यूथ स्किल डे पर कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें सत्ताधारी दलों के प्रतिनिधियों को पहुंचना था।
tejashwi yadav not attend vishwa yuva kaushal divas event

लालू की गीदड़ भभकी से कितना डरते है नीतीश?





तेजस्वी ने अंतिम समय में नहीं जाने का फैसला किया। दरअसल जदयू के नेताओं ने बार बार यह संदेश देना चाहा है कि तेजस्वी भ्रष्टाचार मामले में सफाई और इस्तीफा दें। लेकिन राजद सुप्रीमो लालू यादव ने साफ कह दिया है कि तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे। दरअसल राजद भी यह चाहती है कि किसी भी तरह से नीतीश कुमार ही महागठबंधन को तोड़े यानी तेजस्वी को बर्खास्त करें। निश्चिततौर पर तेजस्वी नीतीश पर दबाव बनाने की कोशिश में लगे हैं ताकि उनका इस्तीफा न मांगा जाए। गौरतलब है कि जदयू ने राजद पर दबाव बनाते हुए कहा है कि 80 विधायकों होने का घंमड के बदले तेजस्वी यादव को आरोपों को लेकर खुद पाक साफ साबित करने की जरूरत है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी को सीबीआई ने होटलों के लिए जमीन घोटाले की जांच में नामजद किया है। इस बार नीतीश के लिए काफी कठिन समय है क्योंकि उन्होंने अपने राजनीति जीवन में कभी भी भ्रष्टाचार से समझौते नहीं किए। यहां तक की लालू यादव पर जब आरोप लगने लगे थे तो वे पार्टी छोड़कर समता पार्टी बना ली थी। यह तय है कि अगर तेजस्वी यादव पद से नहीं हटे तो इस बार नीतीश कुमार की छवि धूमिल होगी जिसका फायदा विपक्ष उठाना चाहेगा। tejashwi yadav not attend vishwa yuva kaushal divas event