तीन तलाक द्रौपदी के चीरहरण जैसा है : योगी आदित्यनाथ




उत्तर प्रदेश सरकार देश में समान नागरिक संहिता लागू करने की बहस करने को राजी है। वहीं इसका विरोध करने वालों पर सवाल खड़े कर रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि आज देश में शादी विवाह के कानून अलग अलग है यह कहां तक उचित है। जब देश एक है तो समान नागरिक संहिता क्यों नहीं लागू हो सकता है। triple talaq draupdi ke chirharan jaisa hai

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है

जिस प्रकार से कुछ लोग इस सवाल का जवाब नहीं दे रहे हैं यह खास तौर पर महाभारत काल की याद दिला जाती है जब द्रौपदी के चीरहरण हो रहा था तो मौन थे। योगी आदित्यनाथ ने साफ कहा है कि देश में समान नागरिक संहिता होना चाहिए। जिसके लिए कोशिश की जा रही है। देश की समस्या पर अगर मौन होंगे तो यह देश हित में ठीक नहीं होगा। triple talaq draupdi ke chirharan jaisa hai

तीन तलाक पर आज भी कई दल मौन हैं। वे साफ तौर पर अपराधी जैसे मामले हैं। तीन तलाक महिलाओं पर किए जा रहे प्रताड़ना है। महिलाओं के साथ अन्याय है जिस पर सुधार होना ही चाहिए। तीन तलाक के मामले में सरकार लगातार कोशिश कर रही है कि इसका हल हो। देश में समान नागरिक संहिता लागू हो, जिससे मुस्लिम महिलाओं पर अत्याचार ना हो। triple talaq draupdi ke chirharan jaisa hai

मुस्लिमों की खातिर मैं भी वंदे मातरम और भारत माता की जय नहीं बोलूंगा : राहुल गाँधी।

गौरतलब है कि भाजपा के एजेंडे में यह साफ तौर पर है कि किसी भी तरह से समान नागरिक संहिता लागू किया जाए। जिसके लिए वह लगातार कोशिश में लगी है। अभी कुछ दिन पहले केंद्र सरकार ने मुस्लिम नेताओं यानी मौलवियों के पास एक प्रश्नोत्तरी भेजा था जिसमें समान नागरिक संहिता लागू करने के कुछ प्रश्न थे जिसका मुस्लिम संगठन ने विरोध किया। हालांकि जब से उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है तब से कई मुस्लिम संगठनों ने तीन तलाक के सवाल पर सरकार के साथ हो गई है। लेकिन अभी भी कई संगठन सरकार के इस कदम का विरोध कर रही है। triple talaq draupdi ke chirharan jaisa hai