नोटबंदी से हैं परेशान, तो अपनाइये यूपीआइ।

इलेक्ट्रॉनिक तरीके से भुगतान की करने की व्यवस्था तो पहले भी थी, लेकिन अब इस ओर सबसे आधुनिक विकल्प उपलब्ध हो गया है। इसका नाम यूनिवर्सल पेमेंट इंटरफेस (यूपीआइ) है। upset notebandi people, downloard UPI app

बिना किसी शुल्क के इसके जरिये कहीं से भी भुगतान के साथ-साथ राशि भी मंगाई जा सकती है। पहले के विकल्पों की तुलना में इसमें अधिक सहूलियत है।

इसकी सुचना मंगलवार को भारतीय रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक (बिहार-झारखंड) मनोज कुमार वर्मा ने दैनिक जागरण से खास बातचीत में दी थी।

नोटबंदी के बाद कैशलेस की ओर समाज बढ़ रहा है। इसके लिए नई तकनीक भी विकसित हो रही हैं। नई सुविधा यूपीआइ के जरिये प्राप्त हुई है।

यह एक साफ्टवेयर एप है। इसे नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआइ) ने विकसित किया है। 20 से अधिक बैंकों की वेबसाइट पर यह उपलब्ध हो चुका है।

उपभोक्ताओं को अपने मोबाइल पर इस एप को डाउनलोड करना है। ई-मेल की तरह ही अपना एक फाइनेंसियल एड्रेस बनाना है। उन्होंने बताया कि अब चूंकि बैंक के सभी खातों में मोबाइल फोन रजिस्टर्ड है।

इसलिए यह एप ट्रांजेक्शन के लिए तैयार हो जाता है। जिस व्यक्ति को पैसा देना है, उसका फाइनेंसियल एड्रेस एप में भर दें। इसके बाद जितनी राशि भेजनी है, उसका उल्लेख करना होगा। इसके बाद समीट करना है। बिना देर यह राशि संबंधित खाते में चली जाएगी। upset notebandi people, downloard UPI app, upset notebandi people, downloard UPI app, upset notebandi people, downloard UPI app, upset notebandi people, downloard UPI app, upset notebandi people, downloard UPI app