उठो, जागो और भारतीय सेना को मार भगाओ : फारूख अब्दुल्ला




जम्मू कश्मीर में फारूख अब्दुल्ला के बयान से एक बार फिर राजनीति गरमा गई है। फारूख अब्दुल्ला के बयान को लेकर कई तरह कयास लगाए जा रहे हैं। श्रीनगर उपचुनाव में हिंसक वारदातें हुई हैं जिसको लेकर फारूख अब्दुल्ला ने कहा है कि अभी तक का यह सबसे खराब चुनावी माहौल रहा। वे खुद यहां से नेशनल कांफ्रेंस से प्रत्याशी थे। फारूख अब्दुल्ला ने कहा है कि पिछले बीस वर्षों में इतना माहौल कभी खराब नहीं रहा। utho jago aur sena ko maar bhagaon 

सीट जीतने के लिए फारुख अब्दुल्ला ऐसे बयान दे रहे हैं

इन्होंने साफ तौर पर कहा कि जो बच्चे पत्थर मारते हैं, उनका राज्य के पर्यटन से कोई लेना देना नहीं है। वह अपने देश के लिए लड़ रहे हैं। फारूख अब्दुल्ला ने कहा था कि वे भूखे रहेंगे लेकिन देश के लिए पथराव करेंगे और यही हमें समझने की जरुरत है।  इन्होंने यहां तक कहा कि कश्मीर मसले पर अमेरिकी मध्यस्थता को राजी हैं। अगर भारत व पाक इसे सुलझा नहीं सकते हैं तो तय है कि कोई मध्यस्थता करें। utho jago aur sena ko maar bhagaon 

मोदी और योगी के डर से मैंने गौ मांस खाना बंद कर दिया है : आजम खान

यह सांप्रदायिकता की लड़ाई है। ना कि किसी दो पार्टियों के बीच की लड़ाई है। ऐसा नहीं है कि फारूख अब्दुल्ला पहली बार ऐसे विवादित बयान दे रहे हैं इसके पहले भी कई बार वे ऐसे बयान दे चुके हैं। फारूख अब्दुल्ला ने कहा था कि पीओके भारत की बपौती नहीं है वह पाकिस्तान के कब्जे में है, कोई भारत की निजी संपत्ति नहीं है। जिसपर हम उस तरह दावा कर सके जैसे हमारे पूर्वजों की संपत्ति है। utho jago aur sena ko maar bhagaon 

मोदी सरकार को चुनौती है कि वह पाकिस्तान के कब्जे से पीओके को लेकर दिखाए। अब जबकि जम्मू कश्मीर में पीडीपी भाजपा की सरकार है जो सफलतापूर्वक बिना विवाद के चल रहा है ऐसे में फारुख अब्दुल्ला का आग बबूला होना लाजिमी है। इनकी कोई दाल नहीं गल रही है। किसी भी तरह सीट जीतने के लिए फारुख अब्दुल्ला ऐसे बयान दे रहे हैं जिससे विवाद उत्पन्न हो रहा है। utho jago aur sena ko maar bhagaon