कौन होगा अगला उप-राष्ट्रपति?





विपक्ष ने इस बार तेजी दिखाते हुए उपराष्ट्रपति पद के लिए अपने उम्मीदवार पहले ही घोषित कर दिए। जिसके बाद अब सहमति बनाने के लिए सरकार पर दवाब होगा।कांग्रेस की अगुआई में 18 विपक्ष दलों के नेताओँ ने सर्वसम्मति से महात्मा गांधी के पोते गोपाल कृष्ण गांधी को अपना उपराष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुआई में 18 दलों की बैठक हुई। खास बात यह है कि इस बैठक में जदयू के प्रतिनिधि के तौर पर राज्यसभा सासंद शरद यादव भी शामिल हुए। गौरतलब है कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को इसी बात से जदयू अलग हो गया कि विपक्ष अपने निर्णय करने में देरी किया है। vice-president election 2017

कौन कौन है उप-राष्ट्रपति की दौड़ में?





राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोबिंग के नाम की घोषणा होते ही जदयू ने उनको समर्थन कर दिया था। इस बार जब विपक्ष तैयार बैठा था और अपने उपराष्ट्रपति के लिए उम्मीदवार पहले घोषित कर दिए जिससे जदयू के पास कोई चारा नहीं बचा था। आखिर में उसके प्रतिनिधि के तौर पर शरद यादव शामिल भी हुए और विपक्ष का साथ देने का ऐलान भी कर दिया। हालांकि जिस तरह से तीन चार दिनों से बिहार के मुख्यमंत्री व जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार चुप्पी साधे हुए थे इससे तो यही लग रहा था कि शायद फिर विपक्ष का वह साथ नहीं दे। लेकिन नीतीश कुमार ने इस बार विपक्ष का साथ देने का मन बनाया जिससे विपक्ष ने राहत की सांस ली होगी। विपक्ष की ओर से गोपाल कृष्ण गांधी उम्मीदवार है जो प. बंगाल के राज्यपाल रह चुके हैं। खास बात यह है कि गोपाल कृष्ण गांधी जब प. बंगाल के राज्यपाल थे तो राजभवन और मुख्यमंत्री से टकराव की खबरें आई थी लेकिन ज्यादा हवा नहीं दी गई। लेकिन इन सब बातों को भुलाकर वाम दल भी गोपाल कृष्ण गांधी का समर्थन किया है। अगर उपराष्ट्रपति उम्मीदवार पर सत्ता पक्ष और विपक्ष में एकराय नहीं बनी तो 5 अगस्त को चुनाव होंगे। और वोटों की गिनती उसी शाम को हो जाएगी। vice-president election 2017

loading…