यदि मैं राजनीति में दोबारा आ गयी तो नरेंद्र मोदी को सन्यास लेना पड़ जाएगा : सोनिया गाँधी




कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि वे प्रचंड बहुमत का फायदा उठाये। यदि सरकार को प्रचंड बहुमत प्राप्त है तो महिला आरक्षण बिल अभी तक पास क्यों नहीं हो सका है। तीन तलाक पर मोदी सरकार ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया था। पर जब बात महिला अधिकार की आती है तो मोदी सरकार मौन हो जाते है। मैं पत्र के माध्यम से पूछना चाहती हूँ कि यदि महिला सशक्तिकरण की बात आपकी सरकार करती है तो फिर महिला आरक्षण बिल अधड़ में क्यों पड़ा है। woman reservation bill 

महिला आरक्षण बिल का मुद्दा उठाना महज एक राजनैतिक चाल है

बता दें यह बिल 2010 में राज्य सभा में पास हो चूका है। लेकिन लोक सभा में यह बिल 2010 से लंबित पड़ा है। अपने पत्र में सोनिया गाँधी ने लिखा है कांग्रेस हमेशा से इस बिल के समर्थन में रही है। आगे भी इस बिल के समर्थन में रहेगी। यह महिला सशक्तिकरण की दिशा में बड़ा कदम है। उन्होंने पीएम मोदी को पंचायत में दिए गए महिला आरक्षण की याद दिलाते हुए कहा 1989 में विपक्ष ने इस बिल को पास नहीं होने दिया था। लेकिन 1993 में यह सदन के दोनों हाउस में पास हुआ था। woman reservation bill 

ओवैसी आतंकी है उसे इंडिया गेट पर फांसी से लटका देना चाहिए : तस्लीमा नसरीन

गौरतलब है संसद में कई ऐसे बिल लंबित पड़े है। जो देश की उन्नति और प्रगति में आवश्यक है। इसमें महिला बिल आरक्षण भी एक है। देश में पूर्व से महिला आरक्षण को लेकर बहसबाजी होती रही है। लेकिन सरकार इस बिल पर ध्यान नहीं दे रही है। हालांकि, वर्तमान समय में कांग्रेस भले ही महिला आरक्षण बिल की बात कर रही हो। लेकिन यदि मोदी सरकार इस पर कोई कदम उठाती है तो सर्व्रथम कांग्रेस पार्टी ही इसका विरोध करेगी। woman reservation bill 

घना दाढ़ी मुछ बढाने का न्यू फार्मूला

मोदी सरकार के कार्यकाल में कई ऐसे बिल पास हुए है। जिसका कांग्रेस पार्टी ने पुरजोर विरोध किया है। फिर चाहे गुड एंड सर्विस टैक्स, रेल बजट का आम बजट में विलय, प्रॉपर्टी बाइंग एंड सेलिंग बिल. सभी बिलों का कांग्रेस ने विरोध किया है। ऐसे में महिला आरक्षण बिल का मुद्दा उठाना महज एक इत्तफाक है। उससे अधिक कुछ नहीं है। woman reservation bill 

( प्रवीण कुमार )