विकास दर में चीन को पछाड़कर भारत शीर्ष पर बरकरार: वर्ल्ड बैंक




सरकार ने नोटबंदी के चलते अर्थव्यवस्था पर मंदी के खतरे की चिंता को खारिज किया है। केंद्र ने इस संबंध में चल रहे वित्त वर्ष के पहले नौ महीनों खासकर नवंबर और दिसंबर में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष टैक्स में वृद्धि के आंकड़े पेशकर अर्थव्यवस्था के मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र पर नोटबंदी के प्रतिकूल असर की संभावना से इंकार किया है। world bank praises modi economy policy 

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को कहा कि चालू वित्त वर्ष के दिसंबर माह में उत्पाद शुल्क में उछाल से परोक्ष करों में 14.2 प्रतिशत वृद्धि हुई है जो मैन्युफैक्चरिंग की बेहतर स्थिति को दर्शाता है। वहीं प्रत्यक्ष करों और राज्यों में वैट संग्रह में भी अच्छी खासी वृद्धि हुई है। world bank praises modi economy policy 

नौकरियां जाने की खबरें भी नोटबंदी के बाद आने लगी हैं

जेटली का यह बयान ऐसे समय आया है जब पिछले सप्ताह ही केंद्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (सीएसओ) ने वित्त वर्ष 2016-17 के लिए राष्ट्रीय आय के पूर्वानुमान जारी करते हुए जीडीपी की वृद्धि दर पिछले साल के 7.6 प्रतिशत से घटाकर 7.1 प्रतिशत रहने तथा मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र की वृद्धि दर पिछले साल की 9.3 प्रतिशत से गिरकर 7.4 प्रतिशत पर आने का अनुमान व्यक्त किया है। world bank praises modi economy policy 

सिर्फ रोटी-दाल खाकर अपनी जान दे रहे है सेना के जवान

हालांकि, इसमें नोटबंदी के बाद के आंकड़े शामिल नहीं हैं। पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह सहित कई विशेषज्ञ भी यह कह रहे हैं कि आठ नवंबर को 500 रुपये और 1000 रुपये बंद करने के मोदी सरकार के फैसले के चलते चालू वित्त वर्ष में विकास दर के आंकड़े प्रतिशत अंक नीचे आ सकता है। साथ ही कई क्षेत्रों में गतिविधियां सुस्त पड़ने के चलते नौकरियां जाने की खबरें भी नोटबंदी के बाद आने लगी हैं। world bank praises modi economy policy 

वही वर्ल्ड बैंक ने घोषणा की है कि भारत का विकास दर 7.6% से घटकर 7 प्रतिशत रह गया है। हालाँकि, भारत 2017 में भी विकास दर के मामले में चीन को पछाड़कर शीर्ष स्थान बरकरार रखा है। world bank praises modi economy policy