युद्ध ने मारा कहने वाले सेना के सिर कलम पर चुप्पी क्यों साधे है !




पाकिस्तान द्वारा किए गए सैनिकों के प्रति बर्बरता पूर्ण व्यवहार पर देश भर में गुस्सा उबाल पर है। हर कोई यही मांग कर रहा है कि आखिर कब होगी पाकिस्तान पर कार्रवाई पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन करते हुए हमले किए और जिसमें दो सैनिक शहीद भी हो गए। पाकिस्तान सेना ने उसके बाद बर्बरता पूर्वक कार्रवाई भी की। yudh ne mara hai 

उचित दंड दिया जाए

यह कोई भारत पाक के रिश्ते में पहली बार नहीं हुआ है। पिछली बार जब मनमोहन सिंह की सरकार थी तब भी ऐसी घटनाएं सामने आई थी। पाकिस्तान ने जिस प्रकार की कार्रवाई की है निश्चिततौर पर यह कोई उसकी आखिरी घटना नहीं है। अब समय आ गया है कि पाकिस्तान को सियासी संदेश दिया जाए। yudh ne mara hai 

सरकार केवल सैन्य कार्रवाई कर दें उसके बाद फिर कुछ महीनों बाद पाकिस्तान वैसे ही कार्य करता है। निश्चिततौर पर जिस तरह से पाकिस्तान ने कार्रवाई की है सेना अपनी तरीक से जवाब देगी। जिस प्रकार से उरी व पठानकोट हमले के बाद सर्जिकल हमले किए गए और कहा कि भारत कार्रवाई करेगा। लेकिन सिर्फ एक सर्जिकल हमले से काम तो नहीं चलेगा। यह तो साफ हो गया है कि पाकिस्तान वाज नहीं आने वाला है। yudh ne mara hai 

मन की बात

गौरतलब है कि पाकिस्तान की बीएटी ने सीजफायर का उल्लंघन करते हुए एक जेसीओ और एक सिपाही पर घात लगाकार हमला कर हत्या कर दिया। उसके बाद बर्बरता पूर्वक व्यवहार भी किया गया। जिसको लेकर देश भर में गुस्सा उबाल पर है आखिर सरकार चुप्पी क्यों साधे हुए है। yudh ne mara hai 

56 इंच के सीने में गीदड़ का जिगर है : लालू यादव

पाकिस्तान की इस बर्बरतापूर्वक कार्रवाई को लेकर जहां राजद सुप्रीमो लालू यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरा है वहीं एनडीए के सहयोगी दल शिव सेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने साफ तौर पर कहा कि प्रधानमंत्री को मन की बात नहीं गन की बात कहनी चाहिए। भारत ने पाकिस्तान को आगाह किया है कि इस तरह की कार्रवाई के ठीक नहीं है इसके लिए कार्रवाई करने वाले को उचित दंड दिया जाए। yudh ne mara hai