नितीश सरकार ने आतंक फ़ैलाने के लिए शहाबुद्दीन को निकाला, मोदी भेजेंगे जेल





बिहार में नितीश-लालू की जंगल राज स्थापति करने की मंशा को उस वक्त बड़ा धक्का लगा है जब पीएम मोदी ने बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन के केस को फिर से जाँच के लिए सीबीआई को आदेश दिया है। सीबीआई के हाथ में केस जाने से अब लालू-नितीश के अरमानो पर पानी फिर गया है।cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

बिहार में महागठबंधन की सरकार है और जबसे लालू और नितीश की सरकार बनी है तबसे राज्य में आतंक बढ़ गया है, ऐसे में लालू और नितीश की बाहुबली को बाहर करना एक सोची समझी चाल है ताकि राज्य में आतंक को और बढ़ाया जा सके। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

कल खुद बाहुबली शहाबुद्दीन ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि वो बिहार में आतंक फ़ैलाने के लिए ही बाहर आये है। उन्होंने कहा कि वो किसी से डरते नहीं है जिसको जो करना है करें। यदि जाँच से कोई संतुष्ट नहीं है तो पुनः जाँच कराएं, अदालत में आवेदन दें। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

अगर नितीश पसंद नहीं तो गठबंधन से अलग हो जाएं राजद !

शायद, शहाबुद्दीन के इसी बयान को मोदी सरकार ने गम्भरीता से ली है जिस कारण आनन-फानन में पत्रकार राजदेव रंजन मर्डर केस की जाँच सीबीआई से कराने का आदेश दिया गया है। शहाबुद्दीन ने कल अपने बयान में इस बात का भी जिक्र किया था कि पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी आशा रंजन गृहमंत्री के पास जाती है, मदद की गुहार लेकर और मंत्री से कहती है कि उन्हें सिवान में डर लगता है। जबकि मुझसे जब मिलती है तो कुछ और बोलती है। cbi will

मोदी सरकार का आव में आना भी शहाबुद्दीन का विवादस्पित ब्यान है। जिसमें वो खुद को कानून, देश और लोकतंत्र से बड़ा मानता है। ऐसे में मोदी सरकार ने नितीश सरकार के गुर्गों को सबक सिखाने की ठान ली है, सीबीआई के एक अफसर ने नाम न लेने के एवज पे बताया है कि देश में लालू की नहीं बल्कि मोदी की सरकार है और बिहार देश का राज्य है। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

अतः बिहार में भी आतंक को जड़ से मिटाने की जिम्मेवारी मोदी सरकार पर है। यदि राज्य सरकार ऐसा करने में असफल है तो मोदी सरकार करवाई करेगी। बिहार में अब फिर से जंगल राज स्थापित नहीं होने दिया जाएगा। जो भी गुर्गे है उस पर क़ानूनी तौर पर करवाई की जाएगी। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

आगे पढ़िए cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

बिहार का बाहुबली और सांसद मोहम्मद शाहबुद्दीन एक बार फिर जेल भेजे जाने की सुर्ख़ियों में हैं। शनिवार को शहाबुद्दीन के जेल से रिहा होते ही राज्य सरकाए का सियासी पारा पूरे चरम पर हैं अब तक शहाबुद्दीन केवल नितीश सरकार के ही निशाने पर थे लेकिन अब मोदी सरकार ने भी मोहम्मद शहाबुद्दीन को जेल भेजने की तैयारी कर ली हैं। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

दरअसल, शहाबुद्दीन मामले में मोदी सरकार ने सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं सिवान से पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड मामले में अब मोदी ने सीबीआई जांच शुरू करा दी हैं शहाबुद्दीन के बेहद करीबी माने जाने वाले मुंशी मियाँ को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ शुरू की जा चुकी हैं। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

मुंशी मियां को इनके घर प्रतापपुर से गिरफ्तार किया गया है। माना जाता हैं की मुंशी मियाँ शहाबुद्दीन का दाया हाथ हैं उसे शहाबुद्दीन का शूटर भी बताया जाता हैं। मुंशी मियाँ का नाम शहाबुदीन के साथ और भी कई मामलो में हैं। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 

अबकी केंद्र सरकार ने शहाबुद्दीन की गिरफ्तारी की तलवार उसके ऊपर लगा रखी हैं बता दे की शहाबुद्दीन की पत्नी ने केंद्र सरकार से गुहार लगाई थी की बिहार पुलिस इस मामले की जांच नहीं कर पा रही हैं कृपया केंद्र सरकार ही अब इस पूरे मामले को देखे। cbi will inquiry journalist rajdev murder case 
( सलोनी पांडेय )




Web Statistics