कांग्रेस ने सर्जिकल स्ट्राइक नहीं की थी बल्कि आतंकियों को मारने वाले कर्नल को जेल भेजा था





बात कांग्रेस सरकार के उस सच का है जो आज तक जेल के सलाखों के पीछे है वो शख्स जिसने आज से 6 साल पहले आतंकियों को बुरका पहनने को मजबूर कर दिया था, बात हो रही है भारत माता के उस सपूत की जिसने देश की सेवा के लिए भारतीय सविंधान को अपने हाथ में ले लिया। कांग्रेस सरकार के लाख मना करने के बाबजूद उस शख्स ने कमान अपने हाथ में रख ली और आतंकी के मंसूबों को सफल नहीं होने दिया। congress sent leftinent karnal life term jail

जी हां, हम बात कर रहे है 30 जनवरी 2010 की जब देश में कांग्रेस की सरकार थी। कांग्रेस सरकार ने सेना को सख्त हिदायत दी थी कि सेना आतंकियों पर हमले नहीं करेंगे। भले ही आतंकी हमले में सेना की जान क्यों न चली जाए।

कांग्रेस की अंग्रेजी नीति का मोहरा करनाल पठानिया बन गए, कर्नल के सामने कश्मीर में सेना के जवानों की हत्या होती रहे लेकिन कांग्रेस के आदेशानुसार कर्नल कुछ नहीं कर पा रहा था। करनाल के सामने सेना के जवानों को मौत के घाट उतार दिया गया और कर्नल कांग्रेस के आदेश की जंजीर से बंधे रहे।

वो सैलाब जो एक फौजी में होता है




आख़िरकार सब्र का दामन टुटा और सैलाब बनकर उभरा वो सैलाब जो एक फौजी में होता है। बदले की भावना, बदले का सैलाब ! लाख मना करने के बाबजूद कर्नल पठानिया 13 अप्रैल 2010को कांग्रेस सरकार की एक न मानी और कानून अपने हाथ में ले लिये, उनके इस कार्य में मेजर उपेंद्र, हवलदार देवेंद्र कुमार, लांस नायक लखमी व सिपाही अरुण कुमार भी शामिल हुए। congress sent leftinent karnal life term jail

भारत माँ के पांच सपूतों ने कांग्रेस सरकार के आदेशों की धज्जियाँ उड़ाते हुए आतंकी शहज़ाद अहमद , रियाज़ अहमद व मोहम्मद शफ़ी को मौत के घाट उतार दिया। कर्नल पठानिया और मेजर उपेंद्र का खौफ हिमालय में इस तरह गूंजा कि आतंकी हाथ में बन्दुक की जगह चूड़ी पहनने लगा, कर्नल पठानिया के खौफ से बचने के लिए आतंकी बुरका पहन घूमने लगे लेकिन तभी आतंकियों के आका कांग्रेस ने कर्नल और मेजर पर प्रताड़ना का दौर शुरू किया। congress sent leftinent karnal life term jail

भारत मेरे पूर्वजों का घर है और मैं हाउस रेंट नहीं दूंगी : प्रियंका गांधी

पांचों सेना के महावीरों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कराया गया, इस आरोप पत्र में कर्नल पठानिया, मेजर उपेंद्र एवं अन्य के खिलाफ तीन युवकों को अगवा कर आतंकी बताकर कुपवाड़ा में मारने का आरोप लगाया। यह आरोप पत्र सोपोर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में दायर किया गया। congress sent leftinent karnal life term jail

तत्कालीन रक्षा मंत्री ए. के. एंटनी ने उनकी वर्दी उतरवाकर उन्हें बर्खास्त कर दिया और अदालत ने कर्नल पठानिया, मेजर उपेंद्र और अन्य साथियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। आज ये सभी कारागार में बन्द है।

इसके बाद आतंकियों और उनके आकाओं के बीच लड्डू बांटी गई। आज दुनिया में मुस्लमान का बच्चा-बच्चा आतंकी कमांडर बुरहान वाणी को जानता है लेकिन दुर्भाग्य की बात है की कर्नल पठानिया को मुस्लमान तो छोड़िये हिन्दू भी नहीं जनता है।








Web Statistics