कुछ लोग चाहते है भारत का युद्ध में ईराक़ और सीरिया जैसा हाल हो जाए ?




आज पूरा देश कश्मीर मुद्दे को लेकर एक है, होना भी चाहिए क्योंकि एक कहावत है न घर की भेदी लंका ढाए। यदि अब एकजुट नहीं हुए तो पाकिस्तान क्या ? सभी मुस्लिम देश मिलकर हिंदुस्तान को सीरिया, ईराक़ जैसा कब्रगाह बना देगा । enemy people wants distract modi  

हालांकि, देश में कुछ लोग मोदी सरकार के विरोधी भी है जो मौका मिलने पर मोदी पर आरोप मढ़ने से नहीं कतराते है। हमने कल आज तक में एक आर्टिकल पढ़ा, जिसमें पीएम मोदी की तुलना इंदिरा गाँधी से की गई थी। ये तुलना देश में विकास या अन्य मुद्दों पर नहीं किया गया था बल्कि ये तुलना पाकिस्तान को लेकर किया गया था। enemy people wants distract modi  

यदि पीएम मोदी ने कुछ लोगों की इच्छाओं के लिए ऐसा कोई कदम उठाते है तो भारत का हाल ईराक और सीरिया जैसा हो जाएगा और भारत के निकटवर्ती देश चीन, पाकिस्तान यही तो चाहते है। की भारत में अशांति फैले। मोदी सरकार को बहरी दुश्मन के आलावा आंतरिक दुश्मनों से भी निपटने की आवश्यकता है। आंतरिक दुश्मनों से निपटने के लिए पीएम मोदी को कूटनीति राजनीति करने की आवश्यकता है। enemy people wants distract modi  

यदि परिपेक्ष्य को देखा जाए तो ऐसा प्रतीत होता है कि 1960-70 का समय ऐसा नहीं था, जैसा आज है। दिवंगत इंदिरा गाँधी देश की पहली प्रधानमंत्री बनी, इसमें दो मत नहीं है कि वो अच्छे प्रधानमंत्री नहीं हुए किन्तु उनके फैसलों का नतीजा है कि आज पाकिस्तान बार-बार हमें धमका जाता है। enemy people wants distract modi  

बंगलादेश का अलग होना भी परमाणु बम की देन है

1965 और 1971 को जख्म भरने के लिए पाकिस्तान ने चीन और रूस की मदद ली और परमाणु ताकत की ओर पैर पसारा। इतिहास साक्षी है कि पाकिस्तान ने परमाणु बम बनाने के लिए कितनों लोगों की हत्या की। enemy people wants distract modi  

यदि इससे पूर्व की तारीख में जाया जाए तो बलूचिस्तान इसका एक और उधारण है। पाकिस्तान ने यंहा पर भी जबरन अधिकार स्थापित किया है। आज भी बलूच के लोगों के साथ दुष्कर्म और बर्बरता वाला व्यवहार किया जाता है। enemy people wants distract modi  

बंगलादेश का अलग होना भी परमाणु बम की देन है। पाकिस्तानी आर्मी ने आजादी के बाद पाकिस्तान के इस पूर्व प्रान्त में कोहराम मचा रखा था। जिससे लोगों में रोष था ये रोष चिंगारी के जरिये आग बनी और अंततः बंगलादेश की आजादी के लिए युद्ध हुआ। enemy people wants distract modi  

उस समय वंहा की जनता ने इंदिरा गाँधी से मदद की मांग की थी। इंदिरा गाँधी उस वक्त मजबूर थी क्योंकि यदि इंदिरा गाँधी बंगाली लोगों की मदद नहीं करती तो पाकिस्तान का मनोबल बढ़ जाता और फिर पाकिस्तान तो यही चाहता था कि किसी तरह से भारत के रक्षा मामलों को आँका जाए। जिसमें वो कामयाब भी हुआ। enemy people wants distract modi  

भारत द्वारा संयुक्त राष्ट्र सीमा उंल्लघन का फायदा पाकिस्तान को हुआ। चीन को इस बाबत ये भनक लगी कि यदि भारत इस युद्ध में पाकिस्तान को पराजित कर देता है तो भारत और मजबूत हो जाएगा। इसलिए चीन ने खुले तौर पर युद्ध के बाद पाकिस्तान की मदद की। enemy people wants distract modi

विश्व समुदाय के सामने पाकिस्तान हीरो बन गया

जबकि भारत के पास मजबूरी ही मज़बूरी थी नेहरू जी के समय से भारत ने अमेरिका और रूस से दुरी बनाया रखा जिसका खामियाजा भारत को 1962, 1965, 1971 युद्ध से चुकाना पड़ा। यंहा हम कह सकते है कि पीएम नेहरू शायद, अपनी ज़िन्दगी को छोड़ बाकि सभी चीजों को भूल चुके थे। enemy people wants distract modi  

मुसलमानों को जलाने पर कांग्रेस ने जताया एतराज

हालांकि, बंगलादेश आजाद हो गया किन्तु इससे भारत को दो नुकसान उठाना पड़ा, पहला विश्व समुदाय के सामने पाकिस्तान हीरो बन गया और दूसरा सभी देशों ने पाकिस्तन को खुलकर आर्थिक मदद दी। जिसेक परिणाम में पाकिस्तान परमाणु स्टेट बन गया। आज स्थिति ये है की परमाणु बम की औकात पर पाकिस्तान कश्मीर में खुलकर आतंकी घटना को अंजाम दे रहा है। enemy people wants distract modi  

युद्ध ही कश्मीर में शांति का विकल्प नहीं है

यदि आज के परिपेक्ष्य में पीएम मोदी ने सोच सम्भल कर कश्मीर मुद्दा को नहीं सुलझाया तो पाकिस्तान को फायदा मिल सकता है। आज इंदिरा गाँधी के समय जैसा कुछ नहीं रहा, मोदी सरकार विश्व पटल पर पाकिस्तान को इस तरह घेरना चाह रही है कि उसकी धरती पर ही तांडव मचाया जाए ताकि पाकिस्तान खुद में ही उलझा रह जाए क्योंकि युद्ध ही कश्मीर में  शांति का विकल्प नहीं है। यदि युद्ध होता है तो भारत को अधिक नुकसान होगा। जबकि पाकिस्तान के पास खोने को कुछ नहीं है। enemy people wants distract modi  

ऐसे में जरुरी है कि हम भी इजरायल की पद्धति अपनाये कश्मीर में सुरक्षा इंतजाम को पूरा हाई टेक कर दिया जाए। जवानों को आधुनिक बल्लोट प्रूफ, हथियार और ख़ुफ़िया जाँच एजेंसी को उच्च तकनीक से लैश करने की आवश्यकता है। रही बात सीमा पर शांति स्थापित करने की तो भारत को चाहिए कि इजरायल की तरह जब कभी सीमा पर अशन्ति फैले तो बॉर्डर पर सीज़ फायर का उल्लंघन कर घुसपैठी को सबक सिखाएं। enemy people wants distract modi
( प्रवीण कुमार )




Web Statistics